29/11/11

मेरे दिल की आवाज

आज मेरे पास कोई शव्द नही.....

13 comments:

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति said...

आपके दिल की आवाज में देश भक्ति का ये गीत सुन कर बहुत अच्छा लगा.. शुक्रिया आपका ..यह सुन्दर गीत साझा किया ..

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति said...

बहुत सुन्दर देश भक्ति से भरा गीत .. आपकी भावना समझ रही हूँ.. विदेश में अपने वतन की याद ... आपका शुकिया स गीत को सुनाने के लिए ..

अन्तर सोहिल said...

आपकी भावनाओं को समझ सकते हैं।

प्रणाम

P.N. Subramanian said...

आभार...

प्रवीण पाण्डेय said...

सुन्दर गीत।

अनुपमा पाठक said...

सुन्दर गीत!

देवेन्द्र पाण्डेय said...

आइये राज साहब...अब तो आ ही रहे हैं। गीत आपके मन की भाउकता बयान कर रहा है। ईश्वर ने चाहा तो भेट होगी।

गगन शर्मा, कुछ अलग सा said...

राजजी, यह देश भी न !!!
कहां-कहां मन की पर्तों के अंदर जगह बना बैठा रहता ह

वन्दना अवस्थी दुबे said...

bahut sundar.

सुरेश शर्मा . कार्टूनिस्ट said...

आपसे निवेदन है इस पोस्ट पर आकर
अपनी राय अवश्य दें -
http://cartoondhamaka.blogspot.com/2011/12/blog-post_420.html#links

फकीरा said...

अपनी मिटटी की खुशबू हर जगह महसूस हो जाती है

ZEAL said...

bhavuk kar dene wala geet sunwaya aapne...

आशा जोगळेकर said...

गीत आपके मन के भावों को बखूबी बता रहा है ।