18/02/11

मैं भी लाचार हूँ…..क्या प्रधानमंत्री बन सकता हूँ?

आज ब्लाग परिवार पर जब मे अन्य ब्लाग देख रहा था, तो इस ब्लाग पर नजर पढी, अब सारे ब्लाग तो कोई नही पढ सकता, लेकिन जब हेडिंग पढी तो अच्छा लगा, फ़िर सारी पोस्ट पढी तो वोट देने से रुक नही पाया, अगर आप भी अपनी वोट देना चाहे तो...
कल प्रधानमन्त्री जी का व्यक्तव्य सुना तो दिल बाग़ बाग़ हो गया. सुनकर ख़ुशी के आंसू बहने लगे. प्रधानमंत्रीजी के कथन से सुनकर लगा देश वाकई तरक्की कर रहा है. बताइये एक “लाचार” और “मजबूर आदमी” देश का प्रधानमन्त्री बन गया है तो मेरे अन्दर भी उत्साह की तरंगें हिलोरें मारने लगीं . एक उम्मीद बंधी की बेटा मुनीष अब तुम्हारा भी नंबर लग सकता है प्रधानमंत्री बनने का. मैं भी बहुत मजबूर और लाचार आदमी हूँ , और सच तो ये है की मेरी लाचारियत प्रधानमंत्रीजी से मिलती भी है. वो गठबंधन के आगे मजबूर हैं, मैं भी संबंधों को निभाने के लिए मजबूर हूँ. वो भी एक महिला के आगे नतमस्तक हैं मैं भी एक महिला के आगे नतमस्तक हूँ. उनकी सरकार में उन्ही की नहीं चलती मेरे घर में भी मेरी ही नहीं चलती. उनसे देश की व्यवस्था नहीं संभल रही है और मुझसे मेरे घर की व्यवस्था नहीं चलती. आप माने या न माने में भी प्रधानमन्त्री बनने लायक हूँ. वोट देने के लिये यहां जाये

38 comments:

  1. अच्छा व्यंग्य पढ़वाने के लिए शुक्रिया

    ReplyDelete
  2. अपने घर के राष्ट्रपति होने के बावजूद भी
    लिप्सा नहीं भरी!
    आप प्रधान मन्त्री बन सकते हैं!

    ReplyDelete
  3. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (19.02.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  4. हम भी लाचार और मजबूर हैं……………मेरा नम्बर कब आयेगा?

    शानदार व्यंग्य्।

    ReplyDelete
  5. वाह, बहुत बढ़िया व्यंग्य।

    ReplyDelete
  6. यह एक नयी योजना है जो भी लाचार और बेबस होगा उसे प्रधानमंत्री बना दिया जायेगा .....अच्छा है ..मुझे भी सोचना पड़ेगा

    ReplyDelete
  7. .मै बहुत लाचार और मजबूर हूँ मेरा नम्बर भी आ सकता है

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया व्यंग्य :)

    ReplyDelete
  9. हा सब लाचारो का एक न एक दिन तो आयेगा ही |

    ReplyDelete
  10. एक दिन हम लाचारों का भी आएगा :) शानदार व्यंग.

    ReplyDelete
  11. व्यंग्य वाकई अच्छा है।

    ReplyDelete
  12. वह पद मिल जाये तो मैं भी मजबूर बन जाऊगा...

    ReplyDelete
  13. पूरा लेख पढ़ आये ...लाचार और मजबूर ...यदि योग्यता रख दी जाये तो करोड़ों लोग प्रधान मंत्री बनने की लाइन में होंगे

    ReplyDelete
  14. शानदार व्यंग्य्.....बिल्कुल सही बात सामने लाये हैं....

    ReplyDelete
  15. लो जी आप तो एक प्रधानमंत्री चाहते थे यहाँ तो सौ करोड़ मिल गए।:)

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्छा लिखा है, लेकिन सब व्यंग्य क्यों कह रहे हैं उसे? सच लिखा है सब।

    ReplyDelete
  17. यदि लाचार और मजबूर लोग प्रधानमन्त्री बनने के लिए eligible candidate हैं , तब तो आवेदन करने वालों की एक लम्बी फेहरिश्त तैयार की जा सकती है ।

    ReplyDelete
  18. ऐड़ा बनके पेड़ा खावो देश जाए गड्ढे में. इतना मजबूर है तो स्‍तीफा क्‍यूं नहीं दे देता.

    ReplyDelete
  19. इस प्रकार के योग्य उम्मीदवारों से तो देश भरा पड़ा है|

    ReplyDelete
  20. आपका धन्यवाद लिंक के लिये
    शानदार व्यंग्य है।
    वोट भी दे आया हूँ।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  21. .व्यंग्य नहीं हकीकत है जिसे नरसिंघा राव जी ने प्रधान मंत्री पद से हट कर उजागर किया था कि,हम स्वतंत्रता के भ्रम जाल में जी रहे हैं.मनमोहन जी ने पद पर रहते हुए वह साहस दिखा दिया ,इसके लिए उन्हें धन्यवाद.

    ReplyDelete
  22. Janta bhi to laachar hai vote dene ke liye kiya kren! badiya vyang

    ReplyDelete
  23. ‘आप माने या न माने में भी प्रधानमन्त्री बनने लायक हूँ.’

    निस्संदेह....मेरा वोट आप के लिए है.....
    प्रधानमन्त्री बन जाने पर भूलिएगा नहीं...।

    ReplyDelete
  24. मुझे इस वक्‍तव्‍य में प्रधानमंत्री जी की साफगोई नजर आई, लेकिन यह जरूर चर्चा का विषय हो सकता है कि राष्‍ट्र प्रमुख के ऐसे वक्‍तव्‍य का देशवासियों पर क्‍या असर होगा.

    ReplyDelete
  25. जल्दी प्रधान मंत्री बनिए भाटिया जी.आख़िर कोई तो ब्लॉगर साथी कभी प्रधान मंत्री बने.

    ReplyDelete
  26. lagta hai Bharat desh mein 100 karor pradhaan mantri banne ki yogyata waale log rahte hain ...

    ReplyDelete
  27. ham aap ko vote de rahe hai....information and agriculture minister bhi chu lijiye..... finance baad me dekha jayega...bahut sundar byang..badhayi

    ReplyDelete
  28. मजबूरी और लाचारी सिद्ध कर बेचारगी के चलते सहानुभूतियां बटोर लेना भी कोई आसान काम नहीं है जी :)

    ReplyDelete
  29. एक “लाचार” और “मजबूर आदमी” देश का प्रधानमन्त्री बन गया है ????????????

    शानदार .................

    ReplyDelete
  30. शायद आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज बुधवार के चर्चा मंच पर भी हो!
    सूचनार्थ

    ReplyDelete

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये