09/02/11

ज्ञानोदय

आईये आज आप को एक मित्र( सुशील गुप्ता जी ) से मिलवाये, मुझे इन से मिलवाया था अंतर जी ने, ओर यह काम करते हे शाली मार बाग मे, तो मुझे एक दिन अंतर जी ने जब मे दिल्ली गया तो पूछा की इन मित्र की मदद कर सकते हे, हिन्दी का टूल इंस्टाल कर दे इन के पी सी पर, मैने कभी भी दुसरे पीसी पर हाथ नही चलाया, लेकिन इन के पीसी पर थोडी बहुत अडचन आई लेकिन टूल (बारहा) इंस्टाल नही हुआ,

फ़िर इन्होने ने पूछा कि अगर आप के पास समय हो तो मेरे लिये भी एक ब्लाग बना दे, अजी हम ने उस समय तो काम चलाऊ सा ब्लाग बना दिया, लेकिन दिल मे यही कसक थी कि  यार ब्लाग किसी भी तरह से बने बनाना चाहिये था, ओर इन्हे ज्यादा समझा भी नही सका, फ़िर अंतर ने इन्होको एक हिंदी का टूल ईस्टाल कर दिया, इन्होने एक दो  फ़िर चार पांच पोस्टे लिखे, लेकिन पढे कोन? जब कि इन्हे कोई जानता भी नही, ओर किसी एग्रिगेटर मे भी शामिल नही हे.

अब इन की एक नयी पोस्ट आई मुझे बहुत अच्छी लगी, लेकिन पता नही इन्होने खुद लिखी हे या कही से कापी पेस्ट की हे, जो भी हो हम सब को इन्हो का होस्सला बढाना चाहिये, तो चलिये इन के सुंदर विचार को पढे ओर अपने विचार इन्हे खुद इन के ब्लाग पर दे, धन्यवाद, नीचे इन की पोस्ट का कुछ हिस्सा..

जय श्री राम                  ज्ञानोदय           जय श्री राम                                       

हमने जरूर कुछ ऐसा किया है या कर रहे हैं जिसके कारण हम दुखी हैं।  परमात्मा कभी भूल नहीं करते, प्रकृति कभी गलत नहीं करती।  हम अपनी जिन्दगी को देखें, हमने जो भी कुछ दिया है, वही मिल रहा हैबाकी पढने के लिये यहां जाये ओर इन का होस्स्ला बढाए

36 comments:

  1. परिचय के लिये बहुत शुक्रिया जी.

    रामराम.

    ReplyDelete
  2. परिचय के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. एक नए , बेहतरीन ब्लोगर से मिलवाने के लिए आभार ।

    ReplyDelete
  4. आज परिचय का दिन है खुशदीप जी ने भी एक से परिचय कराया है।

    ReplyDelete
  5. परिचय के लिये धन्यवाद। अभी जाते हैं वहाँ।

    ReplyDelete
  6. एक नए व्यक्ति को इस परिवार में शामिल करने के लिया आपका आभार

    ReplyDelete
  7. वहीं जाते हैं

    ReplyDelete
  8. बहुत बहुत शुक्रिया सुशील गुप्ता जी से परिचय करवाने का.

    ReplyDelete
  9. उत्तम बात कही उन्होंने !

    ReplyDelete
  10. नए दोस्त से परिचय कराने का आभार।

    ReplyDelete
  11. आप सभी का धन्यवाद, मेने सुशील जी को समझाया हे केसे टिपण्णी दे, आशा हे उन्हे समझ आ गया होगा, या जब अन्तर जी आयेगे तो वो उन्हे समझा देगे,फ़िर से आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  12. बहुत बहुत शुक्रिया सुशील गुप्ता जी से परिचय करवाने का.

    ReplyDelete
  13. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (12.02.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  14. एक नए व्यक्ति को इस परिवार में शामिल करने के लिया आपका आभार

    ReplyDelete
  15. परिचय कराने के लिए आपका आभार !!!

    ReplyDelete
  16. परिचय के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  17. सुशील गुप्ता जी के उत्तम विचारों से परिचित कराने के लिए आभार...

    ReplyDelete
  18. परिचय के लिये बहुत शुक्रिया जी.
    aapka dhanaywaad

    ReplyDelete
  19. परिचय कराने के लिए आभार.
    आप विदेश में रहते हुए भी हिंदी की जो अलख जगाए हुए हैं वह जज़्बा प्रणम्य है.

    ReplyDelete
  20. डॉ. दिव्या श्रीवास्तव ने विवाह की वर्षगाँठ के अवसर पर किया पौधारोपण
    डॉ. दिव्या श्रीवास्तव जी ने विवाह की वर्षगाँठ के अवसर पर तुलसी एवं गुलाब का रोपण किया है। उनका यह महत्त्वपूर्ण योगदान उनके प्रकृति के प्रति संवेदनशीलता, जागरूकता एवं समर्पण को दर्शाता है। वे एक सक्रिय ब्लॉग लेखिका, एक डॉक्टर, के साथ- साथ प्रकृति-संरक्षण के पुनीत कार्य के प्रति भी समर्पित हैं।
    “वृक्षारोपण : एक कदम प्रकृति की ओर” एवं पूरे ब्लॉग परिवार की ओर से दिव्या जी एवं समीर जीको स्वाभिमान, सुख, शान्ति, स्वास्थ्य एवं समृद्धि के पञ्चामृत से पूरित मधुर एवं प्रेममय वैवाहिक जीवन के लिये हार्दिक शुभकामनायें।

    आप भी इस पावन कार्य में अपना सहयोग दें।
    http://vriksharopan.blogspot.com/2011/02/blog-post.html

    ReplyDelete
  21. सुशील गुप्ता जी का स्वागत है।

    ReplyDelete
  22. यह तो बड़ा अच्छा काम किया आपने। सुंदर विचार हैं ।

    ReplyDelete
  23. परिचय कराने का आभार।

    ReplyDelete
  24. मिले सुर मेरा तुम्हारा तो सुर बने हमारा
    धन्यवाद इसी तरह उत्साह वर्धन करते रहिए

    ReplyDelete
  25. नए ब्लोगर से परिचय कराने के लिए धन्यवाद !

    ReplyDelete
  26. सर जी, ये मैंने ही लिखा है और परसों लिखा है. एक दिन पहले पोस्ट किया था, पर दोबारा पोस्ट करना पड़ा. क्योंकि कमेन्ट बॉक्स शो नहीं कर रहा था. यदि आपने कहीं और देखा या पढ़ा है तो कृपया बताएं. धन्यवाद्. - मलखान सिंह.
    http://mydunali.blogspot.com

    ReplyDelete
  27. आपका आभार
    लेख अच्छा लगा

    प्रणाम

    ReplyDelete

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये