21/02/11

ताऊ ओर ताऊ का राम प्यारे

कल ताऊ का राम प्यारे मेले मे खो गया.... ताऊ ने मंदिर मे जा कर भगवान का धन्यवाद किया, मैने ताऊ से पूछा अरे ताऊ जी आप का कीमती गधा *राम प्यारे* खो गया , ओर आप बहुत खुश हो रहे हे? भगवान का धन्यवाद कर रहे हे, ओर प्रसाद बांट रहे हे?  यह सब क्यो?

ताऊ जी बोले राज भाटिया मै भगवान का शुक्र इस लिये कर रहा हुं कि मै गधे पर नही बेठा था, वर्ना........ पहेली कोन पुछता?

37 comments:

  1. ताऊ जी से कहियेगा उनका रामप्यारे 26 फरवरी को उनके पास पहुँच जायेगा :)

    प्रणाम

    ReplyDelete
  2. @ राज भाटिया जी

    आपके ब्लॉग पर टिप्पणी के लिये क्लिक करते ही यह लिंक नई विंडो में खुल जाता है जी।
    http://www.travian.in/?ad=10235_1114950120&ce_cid=000xQThuiAFQ15N.nv5Y6sU4bH000000

    ऐसा मेरे साथ ही होता है या सबके साथ हो रहा है। कृप्या चैक करवायें। ऐसा ही आपके दूसरे ब्लॉग पर भी होता है।

    ReplyDelete
  3. i wish you get back him bv 29th feb. 2011.

    ReplyDelete
  4. हा-हा-हा-हा , हमारा इकलौता बेचारा ताऊ भी गुम हो जाता !

    ReplyDelete
  5. तावु तो पूरी तरह से ताव में दिख रहे हैं.

    ReplyDelete
  6. .


    भगवान् का लाख लाख शुक्र है कि ताऊ जी गधे पर नहीं बैठे थे , वर्ना हम ब्लोगर्स का क्या होता ? एक ताऊ ही तो हैं हमारे तारणहार ।

    मस्त पोस्ट है भाटिया जी !

    .

    ReplyDelete
  7. ताऊ शुरू से ही घणा समझदार रहा है.

    ReplyDelete
  8. ताऊ वास्‍तव में ही घणा समझदार है।

    ReplyDelete
  9. बहुत मजेदार.
    सलाम

    ReplyDelete
  10. ओ जी ताऊ बच गया बड़ी खुशी की बात है। नहीं तो छीछालेदर की दुकान कौन चलाता?

    ReplyDelete
  11. बहुत ही उम्दा रचना , बधाई स्वीकार करें .

    आइये हमारे साथ उत्तरप्रदेश ब्लॉगर्स असोसिएसन पर और अपनी आवाज़ को बुलंद करें . फालोवर बनकर उत्साह वर्धन कीजिये

    ReplyDelete
  12. ओह अब समझ आया कि मैं घर देर से क्यों पहुंचा था और किसने रामप्यारे को गायब किया था.

    रामराम.

    ReplyDelete
  13. भाटिया जी, लगता है ताऊ की संगत का असर आप में भी आ गया। जब ताऊ आप को मिला और आप ने सवाल किया तब वो रामप्यारे पर ही बैठा था।

    ReplyDelete
  14. सरजी चूंकि मजाक का रिश्ता नहीं है,और स्वभावत बुरा लगने वाला बात है इसलिये यह तो नही कह सकता कि वर्ना .........लोग पूछने पता ही नही चल रहा किस पर कौन बैठा है लेकिन चूकि होली के पहले ही आपने वह माहौल पैदा कर दिया है इसलिये क्षमा प्रार्थना के साथ ।

    ReplyDelete
  15. मज़ेदार!
    हा-हा-हा ...

    ReplyDelete
  16. हा हा ...बहुत ही मजेदार :):)

    ReplyDelete
  17. चलिये अन्ततोगत्वा, ताऊ खोए तो नहीं न...

    ReplyDelete
  18. अब ताऊ तो है ही समझदार.

    ReplyDelete
  19. ताऊ को पूर्वाभास हो गया था रामप्यारे के खोने का !

    ReplyDelete
  20. इस घणी समझदारी के लिए बधाई के पात्र हैं ताऊ ... :)

    ReplyDelete
  21. ताऊ को कहिये की पुरे ब्लॉग जगत को भोज कराये नहीं तो अगली बार बच जायेंगे इसकी गारंटी नहीं है |

    ReplyDelete
  22. .

    भाटिया जी ,

    'ब्लॉग परिवार' का चिन्ह बदल दिया गया है क्या ? कृपया जानकारी दें । मेरे ब्लॉग पर पहले से भिन्न एक नया चिन्ह दिख रहा है । क्या पुनः रजिस्टर करवाना होगा ? कहीं ये किसी तकनिकी गड़बड़ी के कारण तो नहीं हो रहा ? क्या करना चाहिए , कृपया मार्ग दर्शन करें ।

    .

    ReplyDelete
  23. सच कहा है ZEAL ने भगवान् का लाख लाख शुक्र है कि ताऊ जी गधे पर नहीं बैठे थे … वर्ना…

    ReplyDelete
  24. बड़ा प्यारा फोटो खींचा है किसी ने..... फोटोग्राफर को पुरस्कृत करना चाहिए भाटिया जी !

    ReplyDelete
  25. बहुत ही मजेदार....ताऊ तो है ही समझदार.

    ReplyDelete
  26. ताऊ के पास गधों की क्या कमी ! एक गुम दूसरा हाजिर।

    ReplyDelete
  27. ताऊ के पास गधों की क्या कमी ! एक गुम दूसरा हाजिर।

    ReplyDelete
  28. तो वो भी खो जाते...................हा हा हा............

    ReplyDelete
  29. लेकिन इस गधे की खो जाने की हिम्मत कैसे हुई !

    ReplyDelete
  30. चलो अच्छा हुआ कि ताऊ जी बच गये।

    ReplyDelete

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये