13/01/11

बचपन की एक फ़ोटो...

यह नीचे दिया चित्र  मेरे बचपन के समय का हे, अगर किसी के पास ऎसा चित्र हो या, वो खुद इस चित्र मे हो तो मुझे जरुर बतलाये, यह चित्र हे दिल्ली का, जब हम शादी पुर डिपो के पास रहते थे, शायद उस जगह को शास्त्री नगर कहते हे, ओर यह स्कूल शादी पुर मे थोडा आगे जा कर एक लम्बी सी गली से गुजर कर था, सारा मुझे याद नही, सन भी याद नही कलास भी याद नही, सन शायद १९६०,६१,६२ हो सकता हे, कलास पहली हो सकती हे, ओर स्कुल का नाम भी याद नही, हां हो सकता हे जब मै वहां जाऊ तो गलियो से गुजर कर इस स्कुल तक पहुच जाऊ, लेकिन इस फ़ोटो के सिवा कुछ याद नही.

तो आप इस चित्र को ध्यान से देखे, अगर आप मे से कोई इस चित्र मे हो तो जरुर बतलाये, यह शादी पुर  का उस समय का फ़ोटो हे, जब वहां चारो ओर जंगल ही जंगल था, तो ध्यान से इस चित्र को देखे ओर बतालाऎ कि हम कहां हे इस चित्र मे:)


चित्र पर दो बार किल्क करने से यह दो गुणा बडा हो जायेगा, फ़िर देखे ओर बतलाये
इतवार को हम बतयेगे कि हम कहां हे इस चित्र मे

 नमस्कार यह रहा एक बडा हिंट, इसे देख कर ढुढे ऊपर वाली फ़ोटो मे मेरी फ़ोटो, हमारे परिवार मे लडकियां बहुत कम थी, इस लिये मेरी मां मुझे तरह तरह से सजाती संवारती थी, आज भी हमारे परिवार मे जब लडकी पेदा होती हे तो सब को बहुत खुशी होती हे, देखा मेरे बाल कितने लम्बे थे, चलिये अब जल्दी से ऊपर वाली फ़ोटो मे मुझे ढुढे

42 comments:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

कुर्सी पर लग रहे हैं.. ही ही ही

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

ऊपर, चौथे नम्बर पर बांये से...

अभिषेक मिश्र said...

एक और चित्र पहेली !

उप्पर से तीसरी लाइन में बाएं से तीसरे नंबर पर तो नहीं (जैकेट में)

उपेन्द्र ' उपेन ' said...

पिछली पंक्ति का छुटकू............ ( फुल तुक्का ) .. बंटी भैया को हाजिर किया जाये............

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

सबसे निचली पंक्ति में दांयें से दूसरे..... सधा हुआ सा सीधा बच्चा हाथ बांधे बैठा है.....

shikha varshney said...

Dr. monika sharma se sahmat.

अभिषेक ओझा said...

भारतीय नागरिक सही लग रहे हैं हमें तो.

चैतन्य शर्मा said...

सक्रांति ...लोहड़ी और पोंगल....हमारे प्यारे-प्यारे त्योंहारों की शुभकामनायें......सादर

Rahul Singh said...

आप जब जहां रहें, कायम रहें.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" said...

बचपन की यादों को साढा करने के लिए धन्यवाद!
लोहड़ी, मकर संक्रान्ति एवं उत्तरायणी की हार्दिक बधाई एवं मंगल कामनाएँ!
--
छत पर जाओ!
पतंग उड़ाओ!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

:):)कठिन प्रश्न ....मकर संक्रांति की शुभकामनायें

खुशदीप सहगल said...

अभिषेक मिश्र से सहमत...

बच्चों में एक कोट वाले आप ही हो सकते हैं...

जय हिंद...

anshumala said...

लो जी खुद आप को कुछ भी याद नहीं है और हम लोगो से अपनी इतनी पुरानी फोटो पहचानने के लिए कह रहे है शायद आप खुद एक बार में अपने आप को नहीं पहचान पायें होंगे :)

फिर भी एक तुक्का निचे से दूसरी लाइन में तीसरा बच्चा जो कोट पहना हुआ है |

मोनिका जी सही हो सकती है |

ZEAL said...

पहचान लिया - दूसरी पंक्ति में।

ajit gupta said...

राज को राज रहने दो। अब आप राज हैं तो क्‍या किया जा सकता है और कैसे पहचाना जा सकता है।

Udan Tashtari said...

वो वाले.....

P.N. Subramanian said...

गुरूजी वाली लायीं में बाएं से तीसरा. जो स्टाइल मार रहा है.

राज भाटिय़ा said...

अरे नही जी,अभी तक सभी बहुत दुर हे... सब से भोला भाला दिखने वाला, लंबे बाल वाला,लेकिन बाल रिवन से बंधे हे, बडी बडी आंखो वाला मै हुं, बहुत शर्मिला था बचपन मे

महेन्द्र मिश्र said...

.मकर संक्रांति पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई ....

महेन्द्र मिश्र said...

.मकर संक्रांति पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई ....

महेन्द्र मिश्र said...

.मकर संक्रांति पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई ....

सुज्ञ said...

सच में तो पहली उपरी पंक्ति में तीसरे ही राज हो सकते है।
हाथों को बगलबंद किये हुए।
गर्विले से, पास खडी फ़िमेल से दूरी रखते से।;))

सुज्ञ said...

लोहड़ी,पोंगल और मकर सक्रांति उत्तरायण की ढेर सारी शुभकामनाएँ।

पी.सी.गोदियाल "परचेत" said...

पाजी , ये तो ऐसा काम है कि बहुत सारी कलियों का सालों पुराना चित्र दिखाकर एक पुष्प कहता है कि बताओ मैं कहाँ हूँ ! ये इतना आसान काम तो नहीं मगर जहां तक मेरा अंदाजा है, तुसी पहली जमीन पर बैठी रो में बाए से दुसरे ( दो चुटिया वाली कली के बगल पर बैठे हो और वहां भी कुछ सोच ही रहे हो ! :)

प्रवीण पाण्डेय said...

उस दायें से बायें वाले...हाँ हाँ वही।

ज्ञानचंद मर्मज्ञ said...

नीचे से दूसरी पंक्ति में बांये से तीसरे !

मकर संक्रांति,पोंगल,लोहड़ी की हार्दिक शुभकामनाएं !
-ज्ञानचंद मर्मज्ञ

अन्तर सोहिल said...

सभी अंकल और आंटीज बहुत प्यारे हैं :)
मैं कल ही सोच रहा था कि सभी ब्लॉगरों की बचपन की फोटोज पर पहेली मजेदार रहेगी।
वाह! आपने लगा भी दी

प्रणाम

अन्तर सोहिल said...

इस पहेली में सबसे नजदीक मैं पहुंच जाता अगर पहले आता तो
मैनें टोपी वाले अंकल के साथ में खडे बिन्दियों वाली कमीज पहने अंकल को भाटिया जी बताना था :)

अन्तर सोहिल said...

फोटो देखकर मजा बहुत आया, धन्यवाद

: केवल राम : said...

मैंने कल ही देख लिया था ..आपको .शुक्रिया अपने बचपन के छायाचित्र साँझा करने के लिए ..मजा आ गया ..

anshumala said...

नीचे से दूसरी लाइन में जिस तरफ बच्चा सलामी ठोक रहा है उस तरफ से तीसरे | पर ये बताइये की सही बताया तो मिलेगा क्या |

Vijai Mathur said...

Makar sankranti,Lohdee evam Pongal kee shubhkamnayen.

राज भाटिय़ा said...

अरे वाह पहचाने वाले क्यामत की नजर रखते हे,मैने तो साधारण पूछा था आप सब ने पहेली बना दिया, जबाब तो आ गया, लेकिन अन्तर सोहिल जी आप का जबाब गलत हे, आप दोबारा ट्राई करे, सभी का धन्यवाद

girish pankaj said...

maza aa gaya bhaai.. lagaa mere bachapan ke school ka hi ki chitra hai. aakhir aap bhi pahachaan mey aa hi gaye.

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

मैने पहचान लिया पर बताउन्गा नही

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

मैने पहचान लिया पर बताउन्गा नही

rashmi ravija said...

सबके अनुमान पढ़ लिए...और कन्फ्यूज़ हो गए. अब इतवार को आएँगे, सही उत्तर देखने.
मकर संक्रांति की शुभकामनायें

उपेन्द्र ' उपेन ' said...

नीचे से दूसरी पंक्ति में दाये से तीसरा

mahendra verma said...

मैंन छोटे राज साहब को पहचान लिया।

सबसे उपर की लाइन में बाएं से तीसरे स्थान पर आप ही हैं।

शुभकामनाएं।

mahendra verma said...

माफ़ करेंगे,मेरी पहली टिप्पणी में सुधार-

मैंन छोटे राज साहब को पहचान लिया।

सबसे उपर की लाइन में दाएं से तीसरे स्थान पर आप ही हैं।

शुभकामनाएं।

दर्शन लाल बवेजा said...

नीचे से दूसरी पंक्ति में बांये से तीसरे !

विनोद कुमार पांडेय said...

मुझे लग रहा है आप सबसे उपर की पंक्ति में दाहिने से दूसरे स्थान पर खड़े है....पर पक्का नही कह सकता ....