29/06/10

अब यह क्या चक्कर है जी????

अब पता नही यह मेल कितनो को ओर किस किस के नाम से आया है, ओर यह सच भी है या कोई वायरस ही ना हो, इस लिये मेने इसे खोल नही, लेकिन अगर आप मै से किसी को इस बारे कुछ पता हो तो जरुर बताये??

ललित शर्मा

 an mich
Details anzeigen 14:31 (Vor 4 Stunden)

मुझे आप की तरफ़ से ही नही बहुत से लोगो की तरफ़ से भी ऎसा मेल आया है, क्या यह मेल आप ने भेजा है या कोई स्पाम है? अगर आप ने नही भेजा तो आप भी इस लिंक पर किल्क मत करे, हो सकता है कोई वायरस हो

ललित शर्मा ने आपको BLOGIRI की जाँच करने के लिए आमंत्रित किया है





Posteingang
X


मैं BLOGIRI में शामिल हुआ/हुई हूँ और मुझे लगता है कि इसमें आपकी भी दिलचस्पी होगी. जाँच करने के लिए, नीचे दिए गए लिंक का अनुसरण करें:
http://www.blogiri.com/?psinvite=ALRopfW64K7ey9YSyvCgydjbnlVYs0RE1B2cf1pZkJGgYr6DRPTjbe2jdK7RE527_hT0UCzZIM7J4gOZTdil65-Sij9na_PoNA

"कोई संदेश दर्ज करें"

-----
Google Connect समान रुचि के लोगों की दिलचस्प साइटों और दिलचस्प लोगों की खोज करने में मदद करता है. अधिक जानने के लिए, देखें: http://www.google.com/Connect

17 comments:

मनोज कुमार said...

कुछ गड़बड़ है क्या?

राज भाटिय़ा said...

मनोज जी मुझे तो यही लगता है, क्योकि एक ही मेसेजे मुझे सभी ब्लांगर के नाम से आया है, ओर अगर यह मेसेज इतना जरुरी ही था तो कोई पोस्ट बना कर डाल देता... इस लिये साब धान

Udan Tashtari said...

नई एग्रीगेटर की साईट है..ज्वाईन करके फालो करने पर ईमेल भेजती है..मेरी पास भी कई सारी आई.

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

उडनतश्तरी की खबर सही है।

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...

अच्छा, तो ये बात है!! चलिए फिर चिन्ता त्याग देते हैं। :)

राजीव तनेजा said...

समीर लाल जी सही कह रहे हैं

प्रवीण पाण्डेय said...

और कितने एग्रेगेटर ।

जी.के. अवधिया said...

यद्यपि यह कोई वायरस नहीं है पर आपका शक करना बिल्कुल जायज है।

रंजन said...

हमें तो नहीं भेजता कोई :(

महफूज़ अली said...

मुझे भी आई है....

हमारीवाणी.कॉम said...

थोडा सा इंतज़ार कीजिये, घूँघट बस उठने ही वाला है - हमारीवाणी.कॉम

आपकी उत्सुकता के लिए बताते चलते हैं कि हमारीवाणी.कॉम जल्द ही अपने डोमेन नेम अर्थात http://hamarivani.com के सर्वर पर अपलोड हो जाएगा। आपको यह जानकार हर्ष होगा कि यह बहुत ही आसान और उपयोगकर्ताओं के अनुकूल बनाया जा रहा है। इसमें लेखकों को बार-बार फीड नहीं देनी पड़ेगी, एक बार किसी भी ब्लॉग के हमारीवाणी.कॉम के सर्वर से जुड़ने के बाद यह अपने आप ही लेख प्रकाशित करेगा। आप सभी की भावनाओं का ध्यान रखते हुए इसका स्वरुप आपका जाना पहचाना और पसंद किया हुआ ही बनाया जा रहा है। लेकिन धीरे-धीरे आपके सुझावों को मानते हुए इसके डिजाईन तथा टूल्स में आपकी पसंद के अनुरूप बदलाव किए जाएँगे।....

अधिक पढने के लिए चटका लगाएँ:
http://hamarivani.blogspot.com

Akshita (Pakhi) said...

आजकल खूब एग्रीगेटर आ रहे हैं...उन्हीं का कमाल है.

___________________________
'पाखी की दुनिया' में स्कूल आज से खुल गए...आप भी देखिये मेरा पहला दिन.

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

इतने तरह तरह के एग्रीगेटर्स की जगह ढंग का एक ही बहुत है.....इन पर तो कुछ पता ही नहीं चलता.

राजकुमार सोनी said...

भाटिया जी
मुझे लगता है कि इस बारे में ललितजी से ही विस्तार से पूछना चाहिए। मैं शाम को उनसे चर्चा करूंगा। वैसे किसी भी नए काम में ऐसा होता ही है।

KK Yadava said...

हर कोई इस समस्या से पीड़ित है. राह दिखे तो हमें भी बताएं.

निर्मला कपिला said...

calo isee mel ke bahaane hamaaree vaaNee se kuch aashaa huyee hai. dhanyavaad

डा. अरुणा कपूर. said...

yeh kaisi samasyaa hai?...is samsyaa se avgat karayaa...dhanyawaad, Bhatiaji!