27/06/10

आइये मेले की तेयारी करे...(हमारे गांव का मेला)

video
आईये आप को हम अपने गांव के मेले मे ले चले, अजी मेले के तो चित्र आप को बाद मै दिखायेगे, उस से पहले मेले की तेयारी तो देखे.... ऊपर वाले विडियो मै एक बुजुर्ग बेंड बाजे की अगुवाई कर रहा है, ओर यह बेंड बाजा किराये का नही किसी शोकिया ग्रुप का है जो शान बान से मेले की ओर बढे जा रहे है.....
video
इस ऊपर वाले विडियो मै बाद मै गांव के बडे बुजुर्ग आते है, अपनी अपनी  पोशाक मै, विडियो के अंत मै एक बुजुर्ग आप को दिखेगे टोपी वाले, असल मै यही पोशाक यहां कि है, ओर टोपी मै एक पंख लगा है,ओर तरह तरह के झंडे लिये यह लोग भी मेले कि ओर जा रहे है....

videoओर इस तीसरी विडियो मै हमारे गावं के फ़ायर बिर्गेड वाले है, जिन मै कई तो मुफ़त मै काम करते है, यह भी आज अपनी बर्दी ओर अपने झंडे के संग मेले का उदघाटन करने आये है...


videoओर इस विडियो मै बावेरिया के लोगो कि असली पोशाक है, यह लोग खास खास मोको पर ही यह पोशाक पहनते है, यह निक्कर या पुरी पोशाक बहुत मंहगी होती है, ओर महिल्यो की पोशाक भी उतनी ही मंहगई होती है जितन पुरषो की, फ़िर बंदुक ओर अन्य हथियार( अन्य हथियार इन के पास नही है) लेकिन लोगो के गले मै मेडलो की माला भी पडी हुयी है, यह लोग आस पास के छोटे छोटे गावं से अपने अपने झंडे ले कर यहां मेले की शोभा बढाने आये है, ओर यह मेला पुरे पांच दिन चलता है, लेकिन मेले से ज्यादा रोनक इन जलुसो मै होती है, मेले मै तो यह लोग सिर्फ़ हाल मै बेठ कर बियर ही पीते है.
  video
इस ऊपर वाली विडियो मै जो बेंड वाजा है ओर जो लोग इस मै शामिल है वो मेले मै अलग अलग काम करने वाले है, कोई वहा गीत गाने वाला है तो कोई वहां बीयर देने वाली है, तो कोई वहां किचन मै काम करने वाला है, तो कोई बर्तन मांजने वाला, लेकिन सब मिल कर ओर शान से आगे बढ रहे है, ओर यहा बर्तन मांजने वाले की भी उतनी ही इज्जत है जितनी गांव के सरपंच की, मेने टुकडे टुकडे कर के खास खास सिन ही इस विदियो मै डाले है, वर्ना तो यह जलुस एक डेढ घंटे चलता.


videoओर इस अंतिम विडियो मै है हमारे गांव के वह लोग जो हमारे गाम्व की कमेटी मै ओर दफ़तर मै काम करते है, ओर फ़िर घोडा गाडी पर हमारे गांव का सरपंच अपनी बीबी ओर बच्चे के संग बेठा सब को हाथ हिला हिला कर नमस्ते कर रहा है, ओर उस की घोडा गाडी के पीछे एक ओर घोडा गाडी है जिस मै बीयर के बडे बडे ड्राम पडे है, ओर सरपंच  मेले मै पहुच कर सब से पहले एक ड्राम से बीयर निकाल कर मेले का उदघाटन करेगां उस के बाद हमारे गांव का मेला शुरु जो पुरे पांच दिन चलेगा, मेले के चित्र  मै अगली पोस्ट मै डालूंगा, सभी विडियो मैने लम्बे नही रखे, ताकि आप लोगो को देखने मै ज्यादा समय ना लगे, तो बताईये केसा लगा हमारे गांव के मेले का उदघाटन,
दुनिया का सब से बडा मेला मुनिख मै लगता है, जो करीब सितम्बर के अन्त मै ओर अक्तुबर के पहले सप्ताह के आसपास लगता है, उस मेले का जलूस कई घंटे चलता है, ओर वहा आने वाले मेहमान करोडो मै होते है.
ओर इस मेले को देख्कर मुझे एक गीत याद आता है कि चलुघी तेरे संग मेले मै लेकिन छोए को नही ऊठाऊंगी, यानि एक पत्नी अपने पति से कहती है कि मै भी जोर जबर्दस्ती से तेरे संग मेले मै जाऊंगी ओर लडके को भी नही ऊठाऊंगी
तो बताये केसा लगा यह हमारे गांव का मेला

21 comments:

  1. वाह क्या बात है. बिंदास.
    अपने गांव यूं घुमाने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  2. बहुत मजेदार वीडियो हैं!
    --
    सुन्दर रहा मेले का चित्रण!

    ReplyDelete
  3. घर बैठे आपके गाँव के मेले की सैर कर ली...
    बहुत बहुत शुक्रिया

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर संकलन गांव के विभिन्न आयामों का।

    ReplyDelete
  5. अपुन के लिए तो यह पराये देश के गाँव का मेला आपके रहने से प्रिय हो गया -और है भी शानदार !

    ReplyDelete
  6. इस मेले की सैर का बहुत मजा आया....उस बियर फेस्टिवल मेले की सैर भी आपने हाल ही में की होगी, जो हर साल होता है!...पिछ्ले साल मैने भी उस मेले की सैर की थी...आपका और मेरा परिवार साथ साथ था!...अर्लांगन मे...बडा मजा आया था!

    ReplyDelete
  7. गांव के मेलों की बात ही निराली है। आपकी पोस्ट पसंद आई

    ReplyDelete
  8. वाह बहुत्6 सुन्दर लगा मेला। वेडिओ कमाल के हैं धन्यवाद।

    ReplyDelete
  9. मजा आ गया जी आपके गांव का मेला देख कर।
    लेकिन आप नहीं दिखे मेले में। दिखते और भी मजा आता।
    लगता है आपके गांव में बिना बियर के कोई काम नहीं होता।
    अब बताईए हम भी बिना बियर के ही मेला देख रहे हैं।
    मेला है एकाध ड्रम तो इधर भी भी भिजवाईए,फ़िर यहां भी मेला है। हा हा हा

    ReplyDelete
  10. वाह! मेले की तैयारी तो बड़ी जोरदार है!! अवश्य ही मेला भी शानदार होगा!!!

    ReplyDelete
  11. जन्मदिन की देरी से शुभकामनाएँ..

    ReplyDelete
  12. मजा आ गया जी बिना बीयर पिये
    आपके गांव लोग भी बहुत सुन्दर हैं।
    मुझे घोडे भी बहुत प्यारे लगे, शायद जर्मनी के घोडे दुनिया भर में मशहूर हैं।
    मेले के बारे में और बातें भी बताईयेगा जी
    किसी की याद में या किस खुशी में लगता है, यह जुलूस कहां से शुरू होता है और कहां खत्म होता है और आप इस मेले में कैसे भाग लेते हैं।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  13. अले वाह, कित्ता मजेदार मेला..मजा आ गया.


    ***************************
    'पाखी की दुनिया' में इस बार 'कीचड़ फेंकने वाले ज्वालामुखी' !

    ReplyDelete
  14. बहुत बढ़िया ......आनंद आ गया !

    ReplyDelete
  15. blog ke jariye mele ka aanand utha liya ,sundar sabhi kuchh .

    ReplyDelete
  16. मजा आ गया... विडियो भी खूब सुन्दर बनाए आपने... आपके होने से कितना प्रिय लग रहा है सचमुच यह पराया देश. जय हो इस मेले की.
    इंतज़ार है अगले दृश्य का.

    ReplyDelete
  17. विडिओ तो मेरे यहाँ चल नहीं रहा. फोटो लगाइए तो देखूं. वर्ना एक वीक बाद ही देख पाऊंगा.

    ReplyDelete
  18. मेले का कुछ इतिहास भी बताएं तो और भी आनन्‍द आएगा। बहुत अच्‍छी सोच है। भारत में भी रोज ही मेले लगते हैं लेकिन उस गाँव में सेवारत लोगों का जलूस खास बात है। अगली कड़ी का इंतजार रहेगा।

    ReplyDelete
  19. अरे वाह भाटिया जी, जब तैयारी इतनी जोरदार है तो मेला तो वाकई गजब का होगा...आनन्द आया

    ReplyDelete
  20. बहुत मजेदार लगा :)

    ReplyDelete

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये