07/06/10

गलती ओर गलती .......

गलती ओर गलती मै फ़र्क.....

अगर नाई करे गलती ..........
तो जी यह है नया स्टाईल .

अगर ड्राईवर करे गलती ........
तो जी यह है नया रास्ता .

अगर इंजिनियर करे गलती ........
तो जी यह है नया माडल

अगर मां बाप करे गलती.......
तो जी यह है नयी पीढी.

अगर नेता गण करे गलती .......
तो जी यह है नया कानून.

अगर साईंटिस्ट करे गलती .....
तो जी यह है नयी खोज.

अगर दर्जी करे गलती....
तो जी यह है नया फ़ेशन.

अगर टीचर करे गलती........
तो जी यह है नया फ़ार्मुला.

अगर बास करे गलती....
तो जी यह है नया आईडिया

अगर कर्मचारी करे गलती....
तो जी यह है गलती.

सिर्फ़ गलती....

ओर इस के साथ ही हम जा रहे है कुछ दिनो की छुट्टी पर

33 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

हम सब गलतियों के पुतले है जी!

shikha varshney said...

ओह हो गलती कमाल की हैं .

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

अगर ब्लागर करे गलती तो ?
:)

योगेन्द्र मौदगिल said...

sidhh ho gaya bhatiya g........

sidhh ho gaya bhatiya g........

sidhh ho gaya bhatiya g........


ki ham sab GALTIYAN karne me ek hain...........

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

क्या काम की गलतियां हैं लाये हैं भाटिया जी...

विनोद कुमार पांडेय said...

ग़लती भी एक नया अविष्कार हो जाता है..बढ़िया प्रस्तुति राज जी ..धन्यवाद

M VERMA said...

इसीलिये कहा गया है कि 'गलती से भी गलती मत करो'
सुन्दर प्रस्तुति

माधव said...

to err is human

honesty project democracy said...

अगर ब्लोगर करे गलती तो
यह है ब्लॉग चमकाने की कला ....
अच्छी और रोचक प्रस्तुती

शिवम् मिश्रा said...

छुट्टियाँ मुबारक हो जी |

संगीता पुरी said...

फिसल पडे तो हर हर गंगे .. गल्‍ती स्‍वीकार क्‍यूं करें ??

बेचैन आत्मा said...

छुट्टियाँ मुबारक !
लौट कर बताएं कि वहाँ कौन सी गलती खूबसूरत थी..?

मनोज कुमार said...

अगर ब्लॉगर करे ग़लती
तो वह लेता है छुट्टी
बहुत मज़ेदार पोस्ट।

राज भाटिय़ा said...

अजी कही नही जा रहा बस घर पर ही रहुंगा, लेकिन ब्लांगिग से दुर ता कि इस का गुलाम ना बनू, आप सब भी यही करे कुछ दिन दुर रहे....इस मुयी ब्लांगिग से.

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

क्या निशाना लगाया है, वाह!

Gourav Agrawal said...

ये कविता जानबूझ कर की गयी गलती मानी जाएगी
बहुत अच्छी कविता है, पढ़ कर मजा आ गया

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

वाह....ये तो नयी खोज है गलती की

जी.के. अवधिया said...

भाई हमारा तो सिद्धान्त है "एक तो हम कभी गलती करते नहीं है और कर भी जायें तो मानते नहीं हैं।"

रंजन said...

हा हा..

मजेदार..

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

आपने भी एक शानदार कविता लिखने की गलती की है।
--------
करे कोई, भरे कोई?
हाजिर है एकदम हलवा पहेली।

राजकुमार सोनी said...

आपकी रचना बहुत ही शानदार है. एक बात और मैं आपके ब्लाग पर गलती से वरन जानबूझकर आता हूं।
यहां आकर मैं मुस्कुराता हूं और फिर अपनी गलतियों पर खाक डालकर आगे बढ़ लेता हूं।
वैसे भाटिया जी छुट्टियों में करेंगे क्या यह तो बता दीजिए. आप काफी मजेदार आदमी है। कुछ न कुछ मजेदार काम करेंगे ही इसका भरोसा है।

दिगम्बर नासवा said...

कर्मचारी तो बेचारा शोदा होता है ... आखरी तलवार तो उसी पर गिरने हैं ...

Udan Tashtari said...

कब लौटेंगे छुट्टी से..ये तो बताते जायें कि इसमें भी गलती??

नरेश सिह राठौङ said...

अगर ब्लोगर पोस्ट नहीं लिखे और छुट्टी करे तो वह भी गलती है |

आशीष/ ASHISH said...

Bau jee,
Namaste!
Galti pe achha shodh kiya hai aapne to!
Hum laakh chahe ke na ho par phir bhi, galti se galti ho hi jaati hai!

Babli said...

बहुत सुन्दर और मज़ेदार रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

नीरज जाट जी said...

और अगर भाटिया जी गलती करें तो....
तो मतलब छुट्टी।
ये बात नहीं चलेगी। गलती करो और छुट्टी चले जाओ। ना।

aruna kapoor 'jayaka' said...

..matalab ki galati kuchh na kuchh nai rachana ka aavishkaar karavaati hai!...ab aapane chhutti par jaane ki galati ki hai to jaahir hai ki koi nai chij ham sab ke liye laaoge..maine sahi kaha na bhatiaji?

महेन्द्र मिश्र said...

राज जी गजब की रचना लगी... पढ़कर आनंद आ गया ...आभार

Mumukshh Ki Rachanain said...

जिस पर सबकी गज गिरती, वही तो कर्मचारी ठहरा, अब मालिक की मर्ज़ी, उससे गलती कराये या जो कराये उसे भी गलती कहे,

हमने भी तो मालिक के पास टिपण्णी भेज दी, छुट्टी मना कर आयें तो चाहे इसे गलती कहें या फिर...............

सादर शुभकामनाएं

चन्द्र मोहन गुप्त
जयपुर

ज्ञानदत्त पाण्डेय Gyandutt Pandey said...

चलिये; छुट्टी पर जाने और ब्लॉगिंग से दूर रहने में कोई गलती नहीं है! :)

निर्मला कपिला said...

ांउर ये है सब से बडी गलती कि आप छुट्टी पर जा रहे हैं मगर बिना ये बताये कि क्यों और कहां। रचना बहुत अच्छी लगी धन्यवाद्

hem pandey said...

गलती की नयी रोचक परिभाषा दी आपने. वैसे गलती तो गलती ही है चाहे कोई भी करे.