22/03/10

कुछ अति सुंदर चित्र गीता से....





मुझे एक मेल मिला था, जो अग्रेजी मै था, था तो बहुत अच्छा लेकिन मेरी अपनी भाषा मै नही था, सो मेने उसे मिटा दिया, हटा दिया, लेकिन उस मै कुछ बहुत सुंदर सुंदर चित्र जो मन को मोह रहे थे, मेने कापी कर लिये, ओर उन चित्रो को आप के संग बांट रहा हुं, आप मे से किसी को भी यह चित्र चाहिये तो बेजिझक बिना पुछे यहां से कापी कर ले.....

आप चाहे तो इन चित्रो को बडा कर के भी देख सकते है

24 comments:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

sundar aur manmohak chitra..

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

sundar aur manmohak chitra..

Udan Tashtari said...

बढ़िया चित्र!

--

हिन्दी में विशिष्ट लेखन का आपका योगदान सराहनीय है. आपको साधुवाद!!

लेखन के साथ साथ प्रतिभा प्रोत्साहन हेतु टिप्पणी करना आपका कर्तव्य है एवं भाषा के प्रचार प्रसार हेतु अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें. यह एक निवेदन मात्र है.

अनेक शुभकामनाएँ.

'अदा' said...

बहुत सुंदर चित्र हैं सभी..
आपका आभार..

M VERMA said...

वाकई अति सुन्दर चित्र्

M VERMA said...

वाकई अति सुन्दर चित्र्

योगेन्द्र मौदगिल said...

Bahut hi sunder...Jai ho....

मनोज कुमार said...

बढ़िया चित्र!

सतीश सक्सेना said...

बहुत सुन्दर भाई जी ! सुबह सुबह आनंद आ गया !

seema gupta said...

बेहद मनमोहक चित्र.......
regards

जी.के. अवधिया said...

बहुत ही सुन्दर चित्र हैं राज जी! देखकर मन मुदित हो गया!

ताऊ रामपुरिया said...

बहुते सुंदर चित्र हैं जी.

रामराम.

अन्तर सोहिल said...

सचमुच चित्र बहुत सुन्दर हैं जी
धन्यवाद

प्रणाम

नरेश सिह राठौङ said...

भाटिया साहब बहुत सुन्दर चित्र है | इन चित्रों का दर्शन करवाने का अभार | आप यदि गीता का पाठ सुनना चाहते है तो मेरी शेखावाटी की संगीत वाली पोस्ट पर जाए जिसका लिंक http://myshekhawati.blogspot.com/2010/02/blog-post.html है यहाँ भी बहुत सुन्दर आवाज सुनने को मिलेगी |

नीरज मुसाफिर जाट said...

ये कौन चित्रकार है?

नीरज मुसाफिर जाट said...

ये कौन चित्रकार है?

रश्मि प्रभा... said...

waakai bahut hi sundar

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

वाह्! अति सुन्दर नयनाभिराम चित्र...
जै श्री कृ्ष्ण्!!!

हरकीरत ' हीर' said...

वाह पहले कुछेक चित्र महाभारत युद्ध के समय के हैं शायद ......बहुत खूब ......!!

एक चित्र द्रौपदी का शायद चीर हरण दृश्य के साथ ......बहुत सुंदर ......!!

SANJEEV RANA said...

chitro ke lye dhanyaawaad

shikha varshney said...

वाकई अति सुन्दर चित्र्

अभिषेक ओझा said...

सुन्दर !

Tarkeshwar Giri said...

गीता के तो कण - कण मैं सुन्दरता बसी है ।

हरे कृष्ण हरे कृष्ण हरे हरे

ज्ञानदत्त पाण्डेय Gyandutt Pandey said...

यह अंतिम चित्र ही महारत का मूल है!