11/03/10

मदद के लिये आप सभी का धन्यवाद!!

कल मेने एक पोस्ट डाली थी,मदद के लिये, जिस मै हमे बहुत उपयोगी सलाह मिली, उस परिवार को भी बहुत हिम्मत मिली, मेने यह सारी की सारी पोस्ट ओर कामेंट उन्हे पढवाये, क्योकि यहां तो सब को पता नही इस लिये उलटा सीधा ही बोल रहे थे, लेकिन आप सब की सलाह से उन के सभी काम आज तक ठीक ठाक हुये है,
खास कर वह परिवार दिनेश राय जी, अर्विंद मिश्रा जी  ललित जी ,ओर वत्स जी का  बहुत बहुत धन्यवादी है, वत्स जी से भी कल फ़ोन पर बात हुयी ओर उन्होने भी यही सलाह दी, मेरी तरफ़ से आप सभी का ओर उचित सलाह देने के लिये दिनेशराय द्विवेदी, Arvind Mishra, ललित शर्मा, पं.डी.के.शर्मा"वत्स"     जी  का धन्यवाद

18 comments:

Arvind Mishra said...

शुक्रिया भटिया जी

Udan Tashtari said...

मित्रों की सलाह समय पर आई, अच्छा लगा जानकर. यही तो परिवार की ताकत है.

जी.के. अवधिया said...

चलिये आपका काम हो गया। अन्त भला सो भला!

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

सब से बड़ा धन्यवाद तो आप जो इस विपदा के समय असमंजस में पड़े परिवार को आप ने राहत पहुँचाई!

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

श्री दिनेश जी की आवाज में मैं अपनी आवाज भी मिलाता हूं.

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

भाटिया जी, वाकई में धन्यवाद के पात्र तो आप स्वयं हैं..भई आज के जमाने में कौन किसी के बारे में सोचता है!!

बेचैन आत्मा said...

खेद है कि मैं देर से आया. द्विवेदी जी की सलाह सही है. अस्थि कलश को घर के बाहर पेंड़ की शाख से लटकाने का भी चलन है. अस्थि विसर्जन से पूर्व इसे घर में..(जहाँ रहते-सोते हैं) नहीं लाते. अस्थि विसर्जन भी एक कर्मकांड है जिसे तेरहवीं के बाद भी समय अनुकूल होने पर किया जा सकता है.

मनोज कुमार said...

बहुत-बहुत धन्यवाद

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

ब्लॉगिंग की यही तो उपयोगिता है!
घर बैठे ही उचित सलाह मिल गई!

दीपक 'मशाल' said...

Kuchh din se kisi karanvash blog padhne me aniyamit ho gaya tha..
aapke mitra ke bare me jankar dukh to hua hi.. un ki mata ji ke bare me jankar wo aur bhi gahra ho gaya..
Ishwar unki aatma ko shanti pradan karen aur pariwar va isht mitron ko is sadme se ubarne ki shakti deven..
Om Dyau Shanti antariksha
Shanti Prithvi Shanti Rapah
Shanti oshadhayah Shanti Vanas Patayah Shanti Vishwed Devah Shanti Brahma Shanti Shanti Reva Shanti Sa Ma Shanti Redhi
Om Shanti Shanti Shanti Om

ललित शर्मा said...

राज जी,
वैसे तो ब्लागिंग कमाल की चीज है।
एक पोस्ट लगाओ और सभी तरह की
जानकारियां मिल जाती है।

आपने बहुत ही अच्छा काम किया।
जो उस परेशान परिवार को राहत पंहुचाई।
आभार

rashmi ravija said...

सच ब्लॉग्गिंग की यही उपयोगिता है....मित्रों से आपको उचित सलाह मिल गयी और आपकी परेशानियां दूर हो गयीं...

नारदमुनि said...

chalo sab bolo narayan narayan

Babli said...

बहुत बढ़िया और नेक काम किया है आपने! अब आपको सारी परेशानियों से राहत मिल गयी!

नरेश सिह राठौङ said...

हमारे ब्लॉग जगत की यही तो ख़ासियत है यहाँ पर सभी एक दुसरे की मदद को तैयार रहते है | यह अलग बात है कि वो लोग अपने ज्ञान का सदुपयोग नहीं का पाते है | वैधराज ने कविताओ का ब्लॉग बना रखा है जबकि कवि महाशय स्वास्थ्य संबंधी टिप्स बाँट रहे है |

शरद कोकास said...

चलिये सब की सलाह काम तो आई । यह रिश्ते बने रहे यह कामना ।

ज्योति सिंह said...

sahyog ki aesi hi bhavna bani rahi har dilo me to kya baat ho ?

हरकीरत ' हीर' said...

राज जी , आपकी ये पोस्ट आज देखी ...वैसे भी इस विषय में विशेष जानकारी नहीं थी मुझे ...आपने ब्लॉग परिवार की मदद से उनकी समस्या का हल कर दिया ....खुशी हुई ये मित्रता देखकर ....प्रशंसा के हकदार तो आप हैं .....!!