03/03/10

एक दो दिन आप सब से दुर रहूंगा

कल रात एक भारतिया मित्र चल बसे, काफ़ी दिनो से बहुत सख्त बिमार चल रहे थे, ओर हस्पताल मे भरती थे, दो बच्चे है एक लडका १८ साल का ओर बच्ची अपने भाई से छोटी है, यह काफ़ी समय से शुगर के मरीज थे, फ़िर ज्यादा तबीयत खराब होने पर हस्पताल गये,सात आठ दिनो बाद होश मै आये, एक सप्ताह तक ठीक रहे, लेकिन कमजोरी बहुत ज्यादा थी, कल दोपहर आचानक ह्र्द्या घात हुआ ओत तत्काल कोमा मे चलेगे..... ओर फ़िर रात गये ११,३० पर इस दुनिया को छोड गये.
अपने पीछे बिलखते परिवार को छोड गये, आज हम ( हमारी बीबी ओर मै) दोनो उन के घर गये, ओर उनके घर सब को रोता देख दिल बहुत खराब हुआ, हमारे पास होस्सला देने के सिवा कोई ओर शब्द भी नही था, शायद हम दो चार दिन अब वहां व्यस्त रहे, इस कारण आप सब से माफ़ी चाहता हुं
मित्र का पुरा नाम तो नही मालुम, लेकिन हम उन्हे कुमार के नाम से ही जानते थे, यहां कम भारतीया है इस लिये सब दुख सुख आपस मै बांटते है.
राम राम

32 comments:

शरद कोकास said...

कुमार साहब के प्रति हार्दिक श्रद्धांजलि । परदेश मे अपने लोग ही तो सहारा होते हैं ।

काजल कुमार Kajal Kumar said...

दुखद. प्रभु परिवार को संभलने की शक्ति दे.

Udan Tashtari said...

ईश्वर कुमार साहब की आत्मा को शांति प्रदान करे एवं उनके परिवार को इस अपार दुख को सहने की क्षमता प्रदान करे.

श्रृद्धांजलि!

'अदा' said...

bahut hi dukhad..
meri bhavbheeni shradhanjali..

संगीता पुरी said...

बहुत ही दुखद .. मेरी हार्दिक श्रद्धांजलि !!

M VERMA said...

दु:खद
दुख के इस बेला में सांत्वना देना जरूरी है

Arvind Mishra said...

श्रद्धांजलि !

मनोज कुमार said...

दुखद। भावभीनी श्रद्धांजलि।

Suman said...

श्रृद्धांजलि.

विनोद कुमार पांडेय said...

राज जी अपने ही अपनों के काम आते है खास कर दुख के क्षणों में तो ज़रूर सहारा देना चाहिए.

सादर श्रद्धांजलि!

जी.के. अवधिया said...

ईश्वर दिवंगत की आत्मा को शान्ति प्रदान करे!

हम आपका इन्तजार करेंगे, जी ठीक होते ही वापस आइयेगा।

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत ही दुखद समाचार है. ईश्वर से कुमार साहब की आत्मा की शांति के लिये प्रार्थना करते हैं और आश्रितों को यह दारुण दुख सहन करने की क्षमता प्रदान करे.

रामराम.

सतीश सक्सेना said...

बेहद अफ़सोस हुआ , उनका परिवार कैसा रहेगा ? क्या स्थिति होगी ...इसकी चिंता रहेगी भाई जी !

निर्मला कपिला said...

बहुत ही दुखद । दुख के इस बेला में सांत्वना देना जरूरी है मेरी हार्दिक श्रद्धांजलि !!

ab inconvenienti said...

यह शुगर और दिल की बीमारी हर दूसरे इन्सान को हो रही है. आज़ादी से पहले शायद ही किसी भारतीय को यह समस्या होती थी. पता नहीं लोग कब अपनी ज़िम्मेदारी समझेंगे और परहेज और व्यायाम पर ध्यान देंगे. अपने स्वस्थ्य के प्रति लापरवाह लोगों की गलती की सजा उनके परिवारवालों को भी भुगतनी पड़ती है. दुखद!

प्रकाश गोविन्द said...

दुखद समाचार
ईश्वर से कुमार साहब की आत्मा की शांति के लिये प्रार्थना करते हैं
सादर श्रद्धांजलि

Mithilesh dubey said...

ओह , बहुत ही दुखःद , श्रद्धाजंली ।

महेन्द्र मिश्र said...

बहुत ही दुखद हार्दिक श्रद्धांजलि...

खुशदीप सहगल said...

कुमार जी को ईश्वर स्वर्ग में स्थान दे और उनके घर वालों को ये दुख सहने की शक्ति दे...

जय हिंद...

rashmi ravija said...

ओह यह तो बहुत ही दुखद खबर है...भगवान आपके मित्र की आत्मा को शांति दे..और उनके परिवार जानो को यह अपूर्णीय क्षति सहन करने की क्षमता प्रदान करे.

नरेश सिह राठौङ said...

बहुत दुखद समाचार है | भगवान उनकी आत्मा को मोक्ष प्रदान करे |

Dr. Smt. ajit gupta said...

पराए देश में बस अपने देश के लोग ही अपने बन जाते हैं। आप उस परिवार का ध्‍यान रखें यही सच्‍ची श्रद्धांजलि होगी। भगवान उस परिवार को सम्‍बल बंधाए।

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

बहुत ही दुखद समाचार दिया आपने...
ईश्वर मृ्तक की आत्मा को शान्ती और उनके परिवार, इष्ट मित्रों को ये दुख सहने की ताकत बख्शे।

महफूज़ अली said...

कुमार साहब के प्रति हार्दिक श्रद्धांजलि । परदेश मे अपने लोग ही तो सहारा होते हैं ।

डॉ. मनोज मिश्र said...

बहुत दुखद समाचार है ,
ईश्वर मृ्तक की आत्मा को शान्ति प्रदान करें.

RaniVishal said...

समाचार तो बहुत दुखद है | भगवान उनकी आत्मा को मोक्ष प्रदान करे |

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

ओह.

ज्योति सिंह said...

ishwar aapke dost ke aatma ko shaanti pradaan kare ,bahut dukh hua ,bichhdne ka gam behad dardnaak hota hai .

Babli said...

बहुत ही दुखद समाचार! मैं श्रधांजलि अर्पित करती हूँ!

योगेन्द्र मौदगिल said...

oh....

हरकीरत ' हीर' said...

कुछ ऐसी ही घटना यहाँ भी गुजारी होली से २ दिन पहले .....पति सुबह बाथरूम गया तो वहीँ हृदयाघात से मौत हो गयी ....करीब ४ घेंटे बाद पत्नी सो कर उठी तो पता चला ......कुछ ऐसी घटनाएं द्रवित कर जातीं हैं राज़ जी .....कि शायद वो बच जाता अगर सही समय उसे देख लिया जाता .....!!

कुमार साहब के प्रति हार्दिक श्रद्धांजलि ....!!

Hari Shanker Rarhi said...

Sorry for the sad new!You joined the grieved family and consoled , this is appreciable.Many of us are forgetting even such essentials of humanity.