22/09/08

चिंतन ईशवर

आज का चिंतन, क्या कोई ईश्वर हे, हे कोई ऎसी ताकत जिसे हम पुजते हे,इस बारे लोगो के अलग अलग मत हे, कई लोग इन्हे अलग अलग नामो से मानते हे , तो कई लोग नास्तिक हे, जो एक सिरे से ही इसे नाकारते हे, कई लोग आज कल के साधु संतो को ही भगवान मानते हे, छोडिये इन बातो को आप को ले चलते हे एक विचार की ओर,यानि चिंतन की ओर.....


भारत आजाद होने से पहले एक पत्रिका निकलती थी , उस का नाम था *यंग इंडिया* उस पत्रिका मे एक बार गांधी जी का एक विचार छपा था, जिस मे गांधी जी ने लिखा था कि...नवंबर १९२४ के अंक मे गांधी जी ने लिखा था , क्या सूर्या अस्त या रात को तारो के बीच मे चमकते आधे चांद मे भी कोई सचाई हे ? हां हे ना बिल्कुल हे, यह सुन्दरता सच्ची हे, यह इस लिये सच्चे हें क्योकि यह मुझे उस रचियता की याद दिलाते हे,जिस ने यह सब रचा हे,जब भी मे सूर्यास्त को देखता हु, ओर चांद की खुब्सुरती को देखता हू तो उस के रचने वाले को याद करता हू, ओर उसे पुजते हुये मेरी आत्मा शान्ति से तर हो जाती हे, ओर मे इन सब मे उस की दया को ओर उसे देखता हू.


अध्यात्म ओर प्रकृति का आपस मे गहरा संबंध हे, ओर आध्यात्मिक चिंतन आदमी को प्रकृति के साथ सहयोग पुर्वक जीने की ही राह बताता ही,गलोबल वांर्मिग की स्थितियां मनुष्या की अंद्रुनी कमजोरियां - विलास ,आधिपत्य, लालच ओर अनियंत्रित मह्त्वाकांक्षाअओ के कारण पेडा हुई हें, ओर इस का हल भी हमे प्राकृतिक जीवन शेली अपनाने ओर प्राकृति से प्रेम में ही हे.


गांधी जी हमेशा ही मनुष्य के आद्यात्मिक विकास पर बल देते थे, ओर यह भी कहते थे कि जब तक हम इस प्राकृति से नाता नही जोड लेते तो यह विकास भी नही हो सकता, मीरा बहन के नाम एक पत्र मे उन्होने यह लिखा हे **धरती पर झुकते हुये हमें सीखना चाहिये कि हम भी इस धरती की तरह से सहन शील ओर विनम्र बने, ईश्रर हर जगह हे, अगर यह धरती नही तो हम भी नही, ओर मे इस धरती को ईश्र्वर के माध्यम से ही महसुस करता हू, अगर मे वास्तव मे धरती की संतान हू,ओर उसे मां समझता हू, तो इस धतई का मुझ पर कर्ज हे,ओर मुझे अपने आप को भी धुल के समान समझना चाहिये, ओर मुझे छोटे से छोटे इंसान से भू प्यार बांटने मे, नजदीकी संबंध बनने मे, उसे अपना कहने मे प्रसन्नता होनी चाहिये, क्योकि उस की आत्मा भी मेरी आत्मा जेसी ही हे, उस प्राणी की तरह से ही मेरा भी भाग्य हे, मे भी उसी तरह से एक दिन इस मिट्टी मे मिल जाऊगा.


धरती पर पाये जाने वाले करोडो किस्म के प्राणियों मे से मनुष्या मात्र एक प्राणी हे, यह धरती सिर्फ़ मनुष्यओ के लिये ही नही,बल्कि सभी जीवो की हे, ओर अपनी इसी सईमित सी स्थिति का आभास करने पर मनुष्य लालच, अहंकार ओर आदिपत्य की प्रवृति पर नियंत्रण रख सकता हे, ओर गांधी जी के इन्ही विचारो मे आज के पर्यावरण विनाश वा जलवायू प्ररिवर्तन की समस्या का हल छिपा हे,मनुष्य ओर अन्य जीवों का सह अस्तित्व प्राकृतिक संतुलन कॊ तभी कायम रख पाऎगा, जब मनुष्य की आदते अहिंसक हो गी, अपने अंहकार पर नियंत्रण हो जाने पर मनुष्य का इस प्राकृतिक के साथ् संबंध आधिपत्य का नहीं रहेगा, ओर वह इस कुदरत को अपना गुलाम नही बनाना चाहे गा.


जरुरत ओर लालच के बीच मे सीमा रेखा खींचन जरुरी हे, कुदरत के पास हम सब की जरुरते पूरी करने के लिये तो पर्याप्त संसाधन हे, परंतु हमारा लालच पुरा करने के लिये नही हे,आगे गांधी जी ने लिखा हे की** इस प्राकृतिक का एक नियम हे, एक बुनियादी नियम हे,कि वह रोजाना उतना ही पेदा करती हे, जितना हमे चाहिये, ओर यदि हर इंसान उतना ही ले जितना उसे चाहिये, ज्यादा ना ले तो दुनिया मे गरीबी ना रहे, ओर कोई व्याक्ति भूखा ना मरे.


गांधी जी जीवन की सादगी को हि प्राकृतिक से ही नही, मनुष्य के ह्रदय की सरलता से भी जोडते थे, ऎसे शुद्ध-सरल ह्रदय मे ही सच्चा प्रेम उपजता हे,सभी प्राणियो के प्र्ति प्रेम भाव मनुष्य को सत्य का अह्सास कराता हे, सत्य हि ईश्र्वर हे, प्राकृति के सोन्दर्य मे सत्य ओर ईश्र्वर की मोजूदगी महूह की जा सकती हे

ओर फ़िर सितम्बर १९४६ के *हरिजन * मे गांधी जी ने लिखा था ऎक ऎसी दुनिया मे.... जिसमे सर्वत्र वेभव-विलास का ही वातावरण नजर आता हे , वहां सादा जीवन जीना सम्म्भब हे या नही , यह सवाल व्यक्ति के मन मे हमेशा उठ सकता हे लेकिन सादा जीवन जीने योग्या हे तो यह प्रयत्र भी करने योग्या हे,चाहे वह्किसी एक व्यक्ति या किसी एक ही समुदाय द्वारा क्यो ना किया जाये.

27 comments:

seema gupta said...

गांधी जी जीवन की सादगी को हि प्राकृतिक से ही नही, मनुष्य के ह्रदय की सरलता से भी जोडते थे, ऎसे शुद्ध-सरल ह्रदय मे ही सच्चा प्रेम उपजता हे,सभी प्राणियो के प्र्ति प्रेम भाव मनुष्य को सत्य का अह्सास कराता हे, सत्य हि ईश्र्वर हे, प्राकृति के सोन्दर्य मे सत्य ओर ईश्र्वर की मोजूदगी महूह की जा सकती हे
" bhut sunder atmeek ghyan se bhrpur rachna, pdh kr ek aseem see shantee mehsus huee hai"

Regards

रंजन said...

भाटीया जी,

"धरती पर झुकते हुये हमें सीखना चाहिये कि हम भी इस धरती की तरह से सहन शील ओर विनम्र बने"

बस इतना अगर सभी सिख लें..

आमीन..

परमजीत बाली said...

बहुत अच्छा लेख है।गाधी जी के विचारों का प्रसार करता यह लेख प्राकृति और अध्यात्म एकता पर अच्छा प्रकाश डालता है।बधाई।

dhiru singh said...

gandhi baba ke vichaar ab sirf log charca karne ko karte hai .unka diya hua harijan shabd ab virodh ka vishay bana dia gaya .mahtma gandhi ka ab kuch bacha hai to bas ek shabd gandhi kyonki vohi satta sukh dilata hai logo ko

Anil Pusadkar said...

अन्धेरे मे रौशनी की किरण है बापू के विचार,आभार भाटिया जी नई राह दिखाने के लिये

डॉ .अनुराग said...

शायद यही कारण था की बापू आदमी के नैतिक अनुशासन पर इतना बल देते थे ओर यही कारण था जो लोग जोश में आकर बापू से जुड़ तो जाते थे पर उनकी अहिंसा के रस्ते पर ज्यादा देर चल नही पाते थे इसलिए चौरा - चौरी जैसे काण्ड होते थे ,क्यूंकि अहिंसा के लिए भी इंसान में एक आत्मिक अनुशासन ओर साहस चाहिए

ताऊ रामपुरिया said...

बापू के विचारों को एक बार फ़िर से बताने के लिए धन्यवाद !
वरना तो ये किताबो में ही दबते जा रहे हैं ! आपको कोटिश:
धन्यवाद !

दीपक "तिवारी साहब" said...

बापू के विचारों को पढ़ कर फ़िर से कुछ सोच उत्पन्न
होती है ! बापू और आपको तिवारी साहब का सलाम !

रंजना [रंजू भाटिया] said...

बहुत बेहतरीन लेख ..इसको पढ़वाने के लिए शुक्रिया

Editorial Plus said...

भाटिया जी,
नमस्कार,
समंदर पार रहकर भी बापू के विचारों की सामयिकता और प्रासंगिकता पर बल देनेवाले आपके विचार अनुकरणीय है. इसके लिए हार्दिक साधुवाद!

सच कहा आपने, गांधी जी हमेशा ही मनुष्य के आद्यात्मिक विकास पर बल देते थे, क्योकि इससे प्राप्त शक्ति तमाम भौतिक ताकतों से बढ़कर होती है और तभी तो गरीब, निहत्थे व भोलेभाले भारतवासिओं की फौज चतुर चालाक सशस्त्र अंग्रेजों पर भारी पड़ी और उन्हें भागना पड़ा.

G M Rajesh said...

धरती पर पाये जाने वाले करोडो किस्म के प्राणियों मे से मनुष्य मात्र एक प्राणी हे, यह धरती सिर्फ़ मनुष्यओ के लिये ही नही,बल्कि सभी जीवो की हे, ओर अपनी इसी सईमित सी स्थिति का आभास करने पर मनुष्य लालच, अहंकार ओर आदिपत्य की प्रवृति पर नियंत्रण रख सकता हे, ओर गांधी जी के इन्ही विचारो मे आज के पर्यावरण विनाश वा जलवायू प्ररिवर्तन की समस्या का हल छिपा हे,मनुष्य ओर अन्य जीवों का सह अस्तित्व प्राकृतिक संतुलन कॊ तभी कायम रख पाऎगा, जब मनुष्य की आदते अहिंसक होगी, अपने अंहकार पर नियंत्रण हो जाने पर मनुष्य का इस प्राकृतिक के साथ् संबंध आधिपत्य का नहीं रहेगा, ओर वह इस कुदरत को अपना गुलाम नही बनाना चाहेगा.

repeating large hadron collider

thanks for the sentences from bapu's version.

Nitish Raj said...

कहा और समझाया तो सही है भाटिया जी। जब ही तो वो गांधी थे। और मेरी मदद के लिए धन्यवाद। काम होगया। आप भी चैक कर सकते हैं।

pallavi trivedi said...

सादगी का रास्ता अपनाना सभी चाहते हैं लेकिन इस पर चलना इतना सरल नहीं है!ये तभी संभव है जब मन काबू में हो और नैतिक बल उच्च कोटि का हो!

दीपक said...

उनके बारे मे तो इतना ही कहकर आत्मा शांत हो अती है !कि
इस देश मे एक बुड्डा था या कहे कि अंधेरे कमरे मे एक रोशनदान था!!मेरा प्रणाम उस महामना को ,आपके सवाल का जवाब नही मिला अतः आप ही बताये और हमारा दिल भी है हिंदुस्तानी!बहु्त मधुर!!

रश्मि प्रभा said...

bahut badhiyaa,ishwar se gandhi ji ke vichaaron tak ki parikrama achhi lagi

Deepak Bhanre said...

इस प्राकृतिक का एक नियम हे, एक बुनियादी नियम हे,कि वह रोजाना उतना ही पेदा करती हे, जितना हमे चाहिये, ओर यदि हर इंसान उतना ही ले जितना उसे चाहिये, ज्यादा ना ले तो दुनिया मे गरीबी ना रहे, ओर कोई व्याक्ति भूखा ना मरे.
गांधी जी के अमूल्य विचारों को प्रस्तुत करने के लिए बहुत सुक्रिया .

अशोक पाण्डेय said...

गांधी जी के जीवन और विचारों से हम प्रेरणा लें तो हमारी सारी समस्‍याएं दूर हो जाएंगी। लेकिन इस देश की आजादी के बाद कुछ लोगों ने बापू को मरने दिया, कुछ ने मार दिया। पहले उनके शरीर की हत्‍या की गयी, फिर उनके विचारों की। सबकुछ सुनियोजित तरीके से किया गया। क्‍योंकि गांधी जी जीवित रहते तो कभी भी देश की मिट्टी व बालू से व्‍यापक जनांदोलन पैदा कर सकते थे।

अभिषेक ओझा said...

गांधीजी के इन सद्विचारों को पढ़वाने के लिए शुक्रिया राजजी.

विक्रांत बेशर्मा said...

भाटिया जी ,
बहुत ही सुंदर लेख है !!!!!

Udan Tashtari said...

प्रभावी एवं अच्छा आलेख!! आभार!!!

जितेन्द़ भगत said...

प्रेरक।
ये गाना काफी दि‍न बाद सुना। शुक्रि‍या।

सचिन मिश्रा said...

jankari ke liye aabhar.

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

बेहद सुँगर आलेख - राज भाई साहब -

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

"शुद्ध-सरल ह्रदय मे ही सच्चा प्रेम उपजता हे."
बहुत सुंदर आलेख, भाटिया जी.

हिन्दुस्तानी एकेडेमी said...

गान्धी को जितना पढ़िए उतना ही उपयोगी और प्रेरक विचार मिलता जाएगा। इसकी प्रासंगिकता सदैव बनी रहेगी। सतय ही शाश्वत है, अजर... अमर...।
आपको यह सब यहाँ लाने के लिए धन्यवाद।

रंजना said...

अद्भुद आलेख है.पढ़कर मन श्रद्धानत हो गया.बहुत बहुत अच्छा लगा,आभार.

प्रदीप मानोरिया said...

मेरे चिठ्ठे पर आपका पदार्पण हुआ एतदर्थ कोटिश: धन्यवाद | आपका मार्गदर्शन परम आवश्यक है अतएव "सरकारी दोहे" पढने हेतु आपको स्नेहिल आमंत्रण है