07/09/08

आईये कुछ हंस भी ले...

आप को कुछ चुटकले सुनाता हू,....
सीधा सा हिसाब
संता की शादी हो गई, ओर ठीक तीन महीने के बाद संता जी के घर एक लडकी पेदा हो गई, संता थोडा हेरान हुआ, ओर अपनी बीबी से बोला, सुनो जी मेने तो सुना था की बच्चा नॊ महीने बाद होता हे, ओर हमारी बेटी तो तीन महीने बाद ही हो गई, कही कोई गडबड तो नही ? बीबी बोली संता जी आप भी ना.... आप बहुत सीधे हे, सीधा सा हिसाब भी आप की समझ मे नही आता ? मे समझाती हु तुम्हे,
अच्छा बताओ तुम्हारी शादी को कितने महीने हुये ? संता सोच कर बोला तीन महीने, ओर मेरी शादी को कितने महीने हुये, संता फ़िर सोच कर बोला तीन महीने , ओर हमारी बेटी कितने समय बाद हुयी, संत बोला तीन, तो बीबी बोली सब मिला कर कितना हुआ, संता सब जोड कर बोला नॊ महीने . तो बीबी बोली कि तो पुरे नॊ महिनो बाद ही तो हुयी ना हमारी बेटी, ओर संता बोला हां सीधा सा हिसाब मेरी समझ मे ही नही आया.
*******************************************
अजी आज कल संता बडा परेशान हे ? उसे समझ मे नही आ रहा कि उस की बहिन के तो दो भाई हे ओर उस का एक भाई केसे, वेचारा दिन रात सोच रहा हे, क्या आप उस की मदद करेगे???
********************************************
एक बार एक नेता मर गया, अब मरने के बाद उसे नर्क मे ले जाया गया,सामने ही बहुत बडा मेदान था, ओर उस मेदान के बाहर एक बडा सा गेट,उस गेट के दाई ओर यमराज जी का एयर कंडीशन ओफ़िस, अब नेता जी को अन्दर लेजाने लगे तो तभी आकाशबाणी हुई, इस ओफ़िस मे सुअर ओर नेता का आना सख्त मना हे, इन्हे बाहिर ही छोडा जाये,यम दुत अकेला अन्दर गया ओर कुछ समय बाद बाहर आया,
ओर उस ने उस नेता से यम राज का फ़ेसला सुनाया, कि तुम्हे नर्क मे एक कुयें मे फ़ेका जाये गा, लेकिन तुम ने एक अच्छा काम किया था इस कारण कुंआ तुम्हारी पंसद का होगा,अब नेता जी ने पुछा मेने कब अच्छा काम किया था, यम दुत ने उस का फ़ेसले वाला कागज देख कर कहा जब तुम २ साल के थे , तो तुम्हारे हाथ से एक कोआं रोटी छिन के उड गया था, उस के बाद तो तुम ने ही छीनाना सीख लिया था, ओर बाते करते करते वह लोग उस मेदान के गेट तक पहुच गये, ओर उन के पहुचते ही गेट झट से खुल गया, ओर अन्दर गुसते ही फ़िर से बन्द हो गया.

उस मेदान के बीच मे बहुत ही लम्बी सी सडक थी, ओर उस सडक के दोनो ओर काफ़ी कुयें थे, तो यम दुत उस नेता को पहले कुये के पास ले गया, ओर बोला यह अमेरिका के नर्क का कुआं हे, उस कुये के चारो ओर बहुत से पहरे दार थे, जिन के हाथो मे भाले थे, ओर उन कुअओं के किनारो पर आग की लपटे थी, नेता ने पुछा यह सब क्या हे, क्यो कि कुआं तो बहुत ही गहरा हे, फ़िर यह पहरे दार, ओर आग, यम दुत ने कहा यह नर्क वासी अमेरिकन एक दुसरे के कंधे पर चढ कर बाहर आ जाते हे फ़िर एक दुसरे की मदद कर के सब निकल आते हे,
नेता से जम दुत बोला आप को यहां रहना पंसद हे, नेता बोला क्या मे बाकी के भी कुय़ें देख सकता हु, हां हां क्यो नही, फ़िर आगे गये यह कुआं जर्मन का हे, यह जपानियो का यह चीनियो का, यह अग्रेजो का बारी बारी सारे कुयें यम दुत जी ने दिखा दिये सभी पर बहुत ही सख्त पहरे, ओर चारो ओर आग ही आग, ओर कुयें भी गहरे से गहरे, लोग तंग हो रहे हे, लेकिन सभी अन्दर बेठे कुछ ना कुछ सोच रहे हे.

अब नेता जी ने पुछा क्या भारत का कोई कुआं नही ? यम दुत ने कहा हे हे क्यो नही यह सामने वाला कुआ आप के देश का ही तो हे, नेता जी ने अन्दर झांक कर देखा सभी नेता ही दिखे या फ़िर पुलिस वाले , तो नेता जी ने कहा कि हम भारतीया भगवान को बहुत मानते हे ना इस लिये यहां ना आग हे, ना ही पहरे दार, ओर ना ही यह कां ओरो जितना गहरा हे, यम दुत बोला एक दम गलत, पहली बात तुम भगवान को बिलकुल नही मानते, बस दिखावा करते हो, दुसरी बात यहा आग ओर पहरे दार इस लिये नही की जब भी कोई भागना चहाता हे ओर कुंये की दिवार पर चढने की कोशिश करता हे तो दुसरा उसे खींच लेता हे, यह आज नही सदियो से चल रहा हे, इस लिये यहां पेहरे दारो का काम तो तुम कर देते हो, ओर गेस भी बच जाती हे
समाप्त

10 comments:

जितेन्द़ भगत said...

nice jokes

neeshoo said...

राज जी बहुत अच्छा विचार । कुछ हंसी ठहाकों के लिए

विजय शर्मा said...

बहुत बढ़िया अगर कोई नेता नर्क मै जाएगा तो इस का मतलब सीधा सा है की उस का इंतजार उस कुए मै उस के भाई बंद कर रहे है और वो वापिस इस दुनिया मै नही आयेगा।
पर परेशानी ये है की हमे वो रस्ते का पता चल जाए की वो आते कहा से है तो हम उस रस्ते को ही बंद कर देते है कम से कम देश के लिए कुछ तो हम कर ही सकते है।
आप की क्या राय है ?क्या मेरे विचार ठीक है ?

दीपक said...

नसीहत और फ़जीहत से भरी हुयी है ! खुशांमदीद

ताऊ रामपुरिया said...

मनोरंजन के साथ साथ व्यंग ! बहुत सुंदर !

रश्मि प्रभा said...

bich-bich me hasya ki sakht zarurat hoti hai,maza aa gaya

योगेन्द्र मौदगिल said...

जय हो भाटिया जी..
क्या छांट-छांट कर चुटकुले लगाये आपने...
बधाई..

Udan Tashtari said...

हा हा!!


नौ महिने का हिसाब सही गिनाया.. :)

Anil Pusadkar said...

dhanya ho bhatiya ji.man gaye aapke ganit aur darshan-shastra ko

sab kuch hanny- hanny said...

maja aa gaya isi tarah ki jock bataya karen