12/08/08

ए मालिक तेरे बन्दे हम

आईये कुछ प्रण करे,कुछ तो बदले हम अपने आप को.........

4 comments:

Udan Tashtari said...

आनन्द आ गया सुनकर. ऐ मालिक तेरे बंदे हम!!

P. C. Rampuria said...

सख्त आवश्यकता है ! अति सुंदर चुनाव है !
आपको बहुत शुभकामनाएं ! आज सुबह ही
सुबह आपने ये गीत सुनवा दिया !

Advocate Rashmi saurana said...

sundar geet ko sunane ke liye aabhar.

सचिन मिश्रा said...

Bahut khub