15/09/08

चिंतन आत्म विश्वास

आज का चिंतन यानि हमारे विचारो का मंथन ,अगर हम मे आत्म शाक्त्ति हो, आत्म विशवास हो तो हम जिन्दगी का रुख भी बदल सकते हे,ओर अगर आत्म विशवास की कमी हे तो हम कितना ही पढ ले, लेकिन तरक्की नही कर सकते, हम मे आत्म विश्वास जरुर होना चाहिये, अगर आत्म विश्वास हे तो हम एक भर्ष्ट सरकार भी बदल सकते हे, जितने भी कारन्तीकारी हुये हे वह आत्म विश्वास से ही हुये हे... तो आज के चिंतन की ओर चले.......


बहुत पुरानी बात हे , एक बार मिथिला देश के राजा जनक ने अपने यहां अश्च्व्मेघ यग्या करवाया, ओर इस आयोजन पर अपने आसपास के सभी राजाओ को, ओर पुरी विश्व के विद्दानॊ को बुलाया, यह आयोजन काफ़ी दिनो चला, ओर बहुत दिनो तक विभिन्न विषयो पर खुब चर्चा हुयी, विचार विमर्श हुया,बह्स हुयी, ओर आयोजन शन्ति पुर्वक समापन हुआ.अन्तिम दिन राजा जनक ने सभा मे ऎलान किया की बाहर मेदान मे एक हजार गाय खडी हे, आप मे से जो अपने आप को सर्व श्रेष्ठ विदुवान समझता हे ओर अपने को सिध्द कर दे तो, वह इन सब गायो को अपने साथ ले जा सकता हे,अब पुरे दरबार मे सन्नाटा छा गया.


सभी विदुवान एक दुसरे को देख रहे थे,बात ही ऎसी थी कि कोन आदमी अपने आप को सर्व श्रेष्ठ कहे, फ़िर जब की एक से बढ कर एक विदुवान उपास्थित हो, ओर अब कोन कहे कि मे सब से सर्व श्रेष्ठ हु.कफ़ी समय सभा मे सन्नाटा छाया रहा, लेकिन एक भी विदुवान अपने आप को सब से सर्व श्रेष्ठ ना कह सका, इस के साथ ही राजा जनक को भी चिंता हुयी ओर बोले क्या इस सभा मे एक भी ऎस विदुवान नही जो सर्व श्रेष्ठ अपने को नही घोषित कर सका,क्या एक भी ऎसा विसुवान नही जो इन सब गायो का स्वामी बन सके.

पुरी सभा मे बिलकुल शान्ति छा गई, थोडी देर बाद एक नोजवान विदुवान उठा ओर (उस नोजवान विदुवान का नाम महरिष याग्ज्ञवल्क्य था)उस ने अपने शिष्य समीक से कहा कि तुम सारी जाय हांक कर ले जाओ ओर अपने आश्रम मे बांध दो, उस नोजवान का इतना कहना था कि वहां उपस्थित अन्य बुजुर्ग विदुवानो मे कान फ़ुसी शुरु हो गई, ओर सब ने ऎतराज किया कि यह विदुवान उम्र मे सब से छोटा हे, ओर इस का दावा गलत हे,ओर फ़िर वहां उपस्थित बुजुर्ग विदुवानो ने राजा जनक से कहा, महा राज यह हम सब से उम्र मे छोटा हे यह कल का बालक हम सब से सर्व श्रेठ केसे हो सकता हे.


अब महरिष याग्ज्ञवल्क्य बोले, महा राज मे जानता हू कि मे कल का बच्चा हू, ओर मुझ से सर्व श्रेष्ठ विदुवान यहां बेठे हे,वह मुझ से बहुत ही ज्यादा ज्ञाणी हे , विदुवान हे, साथ मे मे उन से क्षमा चाहता हू, लेकिन उन मे आत्म विश्च्वास की कमी हे, वह अपने आप को सर्व श्रेष्ठ विदुवान कहते हुये डरते हे,ओर जिसे अपनी विदुता पर विशवास नही वह ज्ञाणी हो कर भी आज्ञाणी हे, ओर इस के साथ ही राजा जनक ने सब गायो को महरिष याग्ज्ञवल्क्य को साथ ले जाने की आज्ञा दे दी
धन्यवाद

22 comments:

Anil Pusadkar said...

aapne mera aatma vishwas badha diya, warna bloging ki duniya ko thik se samajh hi nahi pa raha tha.

जितेन्द़ भगत said...

आप वाकई बहुत प्रेरक वि‍चार लेकर आते हैं, हौंसला बढ़ता है। बहुत-बहुत शुक्रि‍या।

seema gupta said...

लेकिन उन मे आत्म विश्च्वास की कमी हे, वह अपने आप को सर्व श्रेष्ठ विदुवान कहते हुये डरते हे,ओर जिसे अपनी विदुता पर विशवास नही वह ज्ञाणी हो कर भी आज्ञाणी हे
" ya sir, very well said, really a very motivating story"

Regards

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत बढिया भाटिया साहब, ये वाकई इतने ऊँचे आत्मविश्वास के
धनी थे और शाश्त्रार्थ में तो विशेषग्य थे ! जब कहीं भी
ऐसा काम कभी पङता था ये शिष्यों से कहते - तुम गायें
आश्रम ले चलो मैं सभा जीत कर आता हूँ ! बिरले ही
उदाहरण इनके जैसे मिलेंगे !

rakhshanda said...

ऐसे प्रेरणा देते वाकये लिख कर आप बहुत अच्छा कर रहे हैं...गिरते इंसानी किरदारों को ऐसी प्रेरणाओं की सख्त ज़रूरत है, उम्मीद है, आगे भी इसे जारी रखेंगे.

संगीता पुरी said...

आपकी लेख पढ़कर सचमुच पाठकों का भी आत्मविश्वास बढ़ जाता है। धन्यवाद।

सतीश सक्सेना said...

पूज्य पिताजी को नमन करते हुए आपको बधाई देता हूँ कि उनका स्केच आपने बनवा कर लगवाया है ! मेरे पिता का कोई चित्र मेरे पास नही है, उनका चेहरा भी याद नहीं है, अतः यह तकलीफ मैं महसूस कर सकता हूँ राज भाई ! इनके चित्र को पुनः व्यवस्थित करते हुए ऊपर कि तरफ़ लायें तो अच्छा लगेगा !

डॉ .अनुराग said...

शुक्रिया राज जी.....

ज़ाकिर हुसैन said...

ऐसे लेखों से आप लोगों में आत्मविश्वाश जगाने का महत्वपूर्ण काम कर रहे हैं भाटिया साहब
great!!!

दीपक said...

बहुत अच्छी रचना प्रस्तुत की आपने ।मेरा आत्मविश्वास बढ गया है! कोरा आभार व्यक्त कर अपनी समिपता को कम नही करना चाहुंगा मेरा प्रणाम स्वीकार करे!!

Gyandutt Pandey said...

सुन्दर! याज्ञ्यवल्क्य का आत्मविश्वास सदैव प्रेरणास्पद रहा है!

अभिषेक ओझा said...

आत्म विश्वाश तो जरूरी है ही... प्रेरक रहा ये प्रसंग भी.

निरन्तर - महेंद्र मिश्रा said...

आत्म विश्वास और दृढ मानसिक इच्छा शक्ति ही हमेशा सफलता का मार्ग प्रशस्त करती है और सफलता की कुंजी है . बहुत बढ़िया प्रेरक आलेख के लिए राज जी आभार

रंजना said...

सुंदर प्रेरणादायक लेख के लिए आभार.सत्य है आत्मविश्वास ही सामर्थ्य का आधार है.

योगेन्द्र मौदगिल said...

कमाल है..Bhatiya g
बहुत ही सुंदर, प्रेरक, अनुकरणीय दृष्टांत...

Udan Tashtari said...

बहुत सुन्दर और प्रेरक पोस्ट. बहुत बहुत आभार.

डा. अमर कुमार said...

.



अरे भाटिया .... ऒऎ मेरे मुंडे...
तू पराये देश में बैठ यह लंतरानियाँ छाँट रहा है,
यहाँ भारत महान में बचे खुचे याज्ञलव्यों ने धर्म परिवर्तन कर लिया है,
आत्मविश्वास खोयी हुई पीढ़ी केवल अख़बार बाँच कर खुसुर पुसुर कर
लेती है.. राजा जनक बेचारे भी मूक बने ताक रहें हैं ।
वैसे आपने बड़े मौके पर याद दिलाया, अब देखो....

सचिन मिश्रा said...

Bahut accha, aabhar.

शहरोज़ said...

अत्यंत प्रेरक कथा की चर्चा आपने की है.
इसके माध्यम से आपने आत्मविश्वास जैसे उर्जावान तत्त्व को जीवन में गहरे उतारने का जो सन्देश दिया है, मूल्यवान है.

Birds Watching Group Ratlam (M.P.) said...

chaliye naye vichar sabhyataa ko samarpit to hue , padhkar achha lagaa , lagaa ki rishi sanskruti bharat se door rahkar bhi ytaad ki jaa sakti hai
sadgun apki agli peedhee men jaaye yahi shubh apekshaa

कुन्नू सिंह said...

आपका लेख पढ के उस बच्चे की तरह मेरा भी आत्म विशवास बढ गया है। अब मै हिन्दी लीखने खूब गलतीयां करूंगा।

निरन्तर - महेंद्र मिश्रा said...

बहुत प्रेरक वि‍चार ...