26/07/08

पति या गधा

एक साहिब बाहर से घबराये हुये आये, ओर बोले अजी सुनती हो आज जब मे बाजार से निकला तो एक गधे ने....
पति की बात पुरी भी नही हुई कि उन की छोटी बेटी भागी भागी आई, ओर बोली मामी मामी भईया ने मेरी गुडिया छीन ली हे, मां ने बेटे कॊ समझाया.
मियां फ़िर बोले , जब मे बाजार से निकला तो एक गधे ने ?????
अभी बात पुरी भी नही हुई छोटा बेटा रोता रोता आया,मामी मामी मुझे भाई ने पीटा, मां ने भाई को डांटा.
जनाब फ़िर से बोलने लगे जब मे बाजार से ?????
तभी बडा बेटा आया, तो मां सब बच्चो से चीख कर बोली सब चुप हो जाओ, पहले मुझे गधे की बात सुनने दो :( :( :( :(......
****************************
दो प्रकार के पुरुष स्त्रियों को नही समझते - विवाहित और कुंवारे ।
*********************************************************
जो सरकारी नहीं होता वही तो असरकारी होता है। एक आशावादी सोचता है कि गिलास आधा भरा है, निराशावादी का विचार होता है कि गिलास आधा खाली है, पर एक यथार्थवादी जानता है कि वह आसपास बना रहा तो अंतत: गिलास उसे ही धोना पड़ेगा।
*********************************************************
प्रत्येक दिन को अपना अंतिम दिन मानकर चलो ..... एक दिन तुम सही साबित हो जाओगे ।

9 comments:

शोभा said...

हा हा हा हा बहुत बढ़िया काम कर रहे हैं आप। इससे बढ़िया खुराक कोई नहीं। सस्नेह

महामंत्री-तस्लीम said...

अच्‍छा जोक है। आशा है आगे भी आप इसी प्रकार अच्‍छे जोक सुनवाते रहेंगे।

Ila's world, in and out said...

रोज़ाना हास्य की पुडिया ले कर हाज़िर हो जाते हैं आप.बहुत बहुत शुक्रिया.

P. C. Rampuria said...

१. गधे की बात .. गजब की है .. पुरे ५ स्टार !

२. दो प्रकार के पुरूष.. तीसरे वाले को समझने की
जरुरत ही नही :) पुरे ५ स्टार

३. सरकारी/असरकारी = बीच में यथार्थवाद
पुरे ५ स्टार !

४. प्रत्येक दिन अन्तिम...आज के लिए इससे
सुंदर कोई विचार नही हो सकता !
पुरे ५ स्टार !

हमने दबाए हैं ५ स्टार !

Anil Pusadkar said...

jab tanaw had se badh jaaye to bus aapko yaad karna hi kaafi hai,mazaa aa jaata hai dhanyawad

advocate rashmi saurana said...

ha ha ha.............

Udan Tashtari said...

हा हा!! बहुत सही..यथार्थवादी वाला अद्भुत है.

-लगता है भारत यात्रा में कोई किताब खरीद लाये हैं रेल्वे स्टेशन से चुटकुलों वाली. :)

दीपक said...

प्रत्येक दिन को अपना अंतिम दिन मानकर चलो ..... एक दिन तुम सही साबित हो जाओगे

अल्लाह जाने अब हम कब सही साबित होने वाले है!!हा हा हा सही है

राज भाटिय़ा said...

आप सभी का धन्यवाद