16/07/08

एक रुपया कहां गया ???

यह एक छोटा सा सवाल हम से हमारे (मदन जी ने )टेक्सी ड्राईवर ने पुछा था... क्या आप देगे इस का जबाब ????
दो दोस्त रोजाना एक स्थान पर थोडी दुर पर बेठ कर केले बेचते हे,दोनो घर से रोजाना ३०, ३० केले ले कर आते हे, पहले दोस्त का नाम सुनील हे, दुसरे दोस्त का नाम सुशील हे. दोनो ३० , ३० केले रोजाना बेचते हे, लेकिन इन के भाव अलग अलग हे..
सुनील एक रुपये के दो केले बेचता हे,यानि रोजाना कुल मिला कर १५, रुपये कमाता हे,
सुशील एक रुपये के तीन केले बेचता हे,यानि रोजाना कुल मिला कर १० रुपये कमाता हे.दोनो के रुपये मिला कर २५ बनते हे,
एक दिन सुनील बिमार हो जाता हे, ओर सुशील से बोलता हे तुम मेरे हिस्से के केले भी बेच दो,सुशील सारे केले ले कर बाजर गया, ओर सोचा अगर मे अलग अलग केले बेचुगा तो मुस्किल होगी, ओर वह एक उपाय सोचता हे, सुनील एक रुपये के दो केले बेचता हे, ओर मे एक रुपये के तीन बेचता हु, यानि दोनो मिला कर दो रुपये के पांच, क्यो ना मे सीधे दो रुपये के पांच बेचू, ओर वह दो रुपये के पांच केले बेचता हे, जब सभी केले बिक गये तो पेसे गिनने लगा तो २४ रुपये ही बने, जब अलग अलग बेचते हे तो २५ रुपये बनते हे, क्या आप बातये गे एक रुपया कहां गया??

17 comments:

Udan Tashtari said...

एक रुपया पुलिस वाला ले गया. :)

Anil said...

सुनील के केलों का भाव = १/२ रुपये
सुशिल के केलों का भाव = १/३ रुपये

दोनों केलों का कुल मिला कर औसत भाव = १/२ और १/३ का औसत = (१/२ + १/३)/२ = ५/१२

लेकिन दोनों केले मिला कर बेचे गये किस भाव पर? २/५ रुपये पर।

प्रति केले कितने रुपये कम मिले? = ५/१२ - २/५
= १/६०

तो ३० केलों पर ५० पैसे का नुकसान होना चाहिये मेरे हिसाब से।

P. C. Rampuria said...

इबी तो रात के साडे बारह बज लिए सै ! और ताऊ की हरयाणवी बुद्धि मे जबाव आ नही रह्या सै !
सुबह मार्निंग वाक् पर दोस्ता कै साथ माथा पच्ची करण का मसाला मिल गया सै ! कल दिन मे
जबाव देंगे ! या जब तक कोई दूसरा दे ही देगा ! तो हमको भी पता चल जायेगा ! अभी तो ताऊ को
भी लग रहा है की सुशील नै कही थोक बेचने में डिस्काउंट तो नही देदिया एक रुपये का ?

Nitish Raj said...

बच्चों को कहानी सुनाने का एक रुपया आपने
रख लिया....

राज भाटिय़ा said...

३० केलो पर ००,५० पेसे ठीक लेकिन हम ने तो ६० केले का हिसाब करना हे ?अनिल जी

Anil said...

धत्त तेरे की, सारा हिसाब सही किया और आखिरी में निर्मूढ़ता भरा काम करके गुड़-गोबर कर दिया मैंने। आज फिर से वही बात याद आई जो स्कूल के दिनों में गणित पढ़ते हुये आती थी - "सिर्फ प्रमेय (theory) पता होने से कुछ नहीं होता, जवाब भी निकालना आना चाहिये।"

Anil Pusadkar said...

sab kuchh sikha humne,na sikhi hoshiyaari

सतीश पंचम said...

उडन तश्तरी के हिसाब से एक रूपया पुलिसवाला ले गया........... अब कहानी आगे बढती है, -.. उस पुलिसवाले से वो एक रूपया थानेदार ले गया । :D

ab inconvenienti said...

when they sell separately:
avg. price per banana is Rs.25/60 that is ~Rs.0.417

when only one sells:
avg. price per banana is Rs.2/5
that is Rs.0.40

now, price difference per banana sold: 0.417 - 0.40 = 0.017 (approx.)

multiplying difference by total number of bananas:
0.017 X 60 = 1.02 Rs. (approx.)

Udan Tashtari said...

भाई, कहाँ लफड़े में पड़े हो..एक रुपया हम से ले लो और मामला रफा दफा करो..और भी ढ़ेरों पोस्ट पड़ी हैं कमेन्टियाने को. ऐसे एक एक में एक रुपये के पीछे टंगे रहे तो उड़न तश्तरी से बैलगाड़ी होते समय न लगेगा और आप एक रुपया जोड़ते रहना. :)

Udan Tashtari said...

हरयाणवीं भी आ ही रहे होंगे टहल टुहल कर जबाब देखने. उनसे बहुत उम्मीद तो नहीं लगाये हैं न?? :)

कुश एक खूबसूरत ख्याल said...

अजी इस महँगाई के जमाने में लखो रुपये यूही जेब से सरक जाते है ऑर आपको एक रुपये की पड़ी है.. अब एक एक रुपये के ज़माने गये..

P. C. Rampuria said...

गुरुदेव (समीर जी) प्रणाम !
ताऊ हरयाणवी टहल टुहल कै आग्या सै !
सवाल का जबाव तो रात में ही दे दिया था !
ताऊ को इतना भी ताऊ मत समझिये ! आख़िर ताऊ चेला किसका सै ?
ये होल सेल डील हुयी है ! दो के पाँच यानी ४० पैसे का केला बिका ! सुनील जो ५० पैसे में बेचता था उसका माल एवेरज ४० पैसे में बिकने से
१० पैसे का नुक्सान यानी ३० केले में ३ रुपये उसके माल में घाटा हुया !
और सुशील जो की अपना माल ३३.३३ पैसे में बेचा करता था ! अब चुंकी ख़ुद के माल में नुकसान नही करेगा (यानी दोस्त की बीमारी का फायदा उठा रहा है ) उसने अपना माल ३३.३३ पैसे की जगह ४० पैसे में बेचा तो उसको
६.३३ पैसे का फायदा हवा ! यानी उसने दो रुपये ज्यादा कमाए !
और ये एक रुपये का घाटा सुनील ने बिम्मारी की वजह से खाया ! या कहो थोक का डिसकाउंट एक रुपये दिया गया !

गुरुदेव आप हमसे उम्मीद करो या ना करो पर कभी कभी खोटा सिक्का भी काम आवै सै ! और हमने तो थारे तै गण्डा बंधवा राख्या सै ! आप बेफिक्र रहियो ताऊ आपका नाम ख़राब नही करेगा ! और भी ऐसे कोई सवाल हो तो चेला हाजिर है !
आप मूड में आगये है मतलब आपकी तबियत झकाझक दिखे सै ! इश्वर का धन्यवाद !

roshan said...

मजेदार सवाल और उतने ही मजेदार जवाब ?
गणित तो बोरिंग होता है , पर आपकी तो गणित
की कक्षा में भी ठहाके लग रहे हैं !
अंदाज मां बदौलत को पसंद आया ! शुक्रिया !

राज भाटिय़ा said...

आप सभी का धन्यवाद, मदन जी से पुछ कर बताऊगा एक रुपया कहा गया, पता मुझे भी नही

डा० अमर कुमार said...

इतनी देर में तो 100 रुपये कमाने का जुगाड़ बन गया होता ।

नितेश said...

सब डील का चक्कर है। 1 के 3 बेचने वाला 10 डील मे सारे केले बेच देता था। दूसरा 15 डील मे।
10 डील तक सस्ते केले खतम हो गए, अगली 2 डील में उसने अपने 10 केले चार रुपये मे बेच दीये, जिसके सामान्यतह उसे 5 रुपए मिलते थे 5 डील में ।

डील गलत हो तो सरकारें तक गिर जाती हैं, एक रुपये के लिये क्या रोना।