16/07/08

होनहार बेटा

मां : बेटा कभी तुम अगर बस में बैठे हो और कोई लेडी आ जाए तो खड़े होकर उसे बैठने के लिए कहना। यह अच्छे इंसान की पहचान होती है बेटा : ठीक है एक दिन बच्चा बस में बैठा होता है और एक महिला को खड़े देखकर उसे बैठने के लिए कहता है तो महिला उसे जोर का चांटा मारती है। बच्चा घर जाकर अपनी मां को यह बताता है मां : लेकिन बेटा तू बैठा कहां था ? बेटा : पापा की गोद में
**********************************
ऐक्सिडेंट हुआ , भीड़ जुट गई। संता को आगे जाने की जगह नहीं मिल रही थी तो वह जोर से चिल्लाया , ' मेरा बापू... ' संता को आगे जाने दिया गया। आगे जाकर संता ने देखा तो वहां एक कुत्ता मरा पड़ा था
***********************************
मां : बेटा सो जा वर्ना गब्बर आ जाएगा बेटा : मां 100 रु. दे दो वर्ना पापा को बता दूंगा कि मेरे सो जाने के बाद गब्बर आता है...
***************************************

6 comments:

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

aapke chutkule man ko bha gaye, badhaayi.

Udan Tashtari said...

Papa ne to bete ko roka bhi naa hoga... :)

कुन्नू सिंह said...

मजेदार मजेदार चूट्कूले अब तो लगता है आपके ब्लोग से ही कोपी पेस्टींग मारनी पडेगी

राज भाटिय़ा said...

धन्यवाद आप सब का

P. C. Rampuria said...

यो महिला और कोई ना सिर्फ ताई ही होगी ! क्योंकि इस तरिया रैपटे (चांटे)
बजाने का काम वो ही करया करै सै !

राजेंद्र माहेश्वरी said...

Ha Ha Ha Ha Ha