12/04/08

काम की बात

आज कल भारत मे भी पखाना फ़्लेट के अन्दर या घरो मे भी एक दो कमरो के बीच मे होता हे, कई बार पेट की खारबी के कारण, या कब्जी के कारण घर का कोई सदस्य सुबह सुबह पहले पखाने मे घुस जाये तो बाकी सभी को नाक बन्द कर के जाना पडता हे, या नाक पर रुमाल वगेरा ले कर जाना पडता हे,ओर अगर स्नान घर भी वही हो ओर स्नान करना पडजाये तो कया हाल होता हे, तो इस बदबु को दो पल मे केसे दुर करे ?

आप अपने बाथरुम मे एक माचिस रखे, जब भी कॊई बाथरुम जाये तो झट से एक तिली मचिस से जलाये( बाथ का पानी छोडने के बाद ) ओर पोट तक ले जाये फ़िर उसे काफ़ी जलने दे बदबु गायब, याकिन ना आये तो कल सुबह कर के फ़िर बताये, तिली जला कर पोट तक या पोट के उपर जरुर ले जाये, चलो कल कर के बताना.

3 comments:

AAKROSH said...

भाटिया जी.
आपका ये कहना अपनी जगह बिल्कुल ठीक है कि बिना मेहनत के कुछ नहीं होता लेकिन ये तो आपको मानना ही पड़ेगा कि कई ऐसे हैं जिन्हें अपनी मेहनत का वो फल नहीं मिलता जिसके वो हकदार होते हैं और कई ऐसे होते हैं जो बिना मेहनत के भी मजे मार रहे होते हैं. फ़िर भी आपकी टिपण्णी को आशीर्वाद समझ कर ग्रहण कर लिया है. बिल्कुल ही नया हूँ ब्लॉग लेखन में, गलतियों की तरफ ध्यान दिलाते रहिएगा. आपकी काम की बात को सुबह होते ही आजमा कर देखूंगा.
शमशाद अहमद

Gyandutt Pandey said...

रोचक रहेगा प्रयोग करना।

Dr. Chandra Kumar Jain said...

प्रेरक और सुंदर प्रस्तुति.
साधुवाद.सचमुच व्यावहारिक
काम की बात.
धन्यवाद.