14/03/08

मन रे तु काहे ना धीर धरे...

आईये आप को एक भजन रुपी गीत सुनाये,गीत फ़िल्म चित्रलेखा से लिया गया हे, जो बनी थी १९६४ मे,गीत कार साहिर लुधियानवी हे, संगीत से सवांरा हे रोशन ने, बोल हे रफ़ी जी के, ओर फ़िल्म के सितारे हे..अशोक कुमार, प्रदीप कुमार, मीना कुमारी ओर साथी...
तो लिजिये सुनिये मन रे तु काहे ना धीर धरे....

3 comments:

दिनेशराय द्विवेदी said...

आप ने क्या शानदार गीत सुनाया है, सुबह सुबह मन प्रसन्न कर दिया।

mehek said...

it added sugar to the beautiful morning,bahut madhur sundar.

राज भाटिय़ा said...

आप सब का बहुत धन्यवाद मेरी हिम्मत बढाने के लिये फ़िर से आते रहिये