14/03/08

चिंतन वफ़ादारी,

आज का चिंतन, हम सब पेट भरने के लिये, कमाने के लिये कभी कभी दुसरे राज्य मे , दुसरे प्रदेश मे, दुसरे देश मे जाते हे,जहां भी हम रहे हमे उस भुमि का कर्ज नही भुलना चहिये, भुमि मां समान होती हे,जहां भी रहे देश मे प्रदेश मे उस देश का कर्ज नही भुलना चहिये, जहां हम रहते हे, उस देश ने हमे आसारा दिया हे, खाने को, पीने को दिया हे उस की रक्षा करना, उसे साफ़ रखना हमारा फ़र्ज हे, हमारा कर्तब्या हे, लेकिन हम मे से कितने लोग इस को करते हे....तो लिजिये आज के विचारो का मन्थन यानि आज का चिंतन...
चिंतन वफ़ादारी
कई पक्षी मोसम के हिसाब से अपना प्रवास बदलते हे, ऎसे ही एक बार एक सारस का जोडा सर्दियो के मोसम मे नये टिकाने की तलाश मे अपने देश से उड चला, काफ़ी दिनो तक उडता रहा, एक दिन रास्ते मे बहुत बडा जगंल पडा, जब यह सारस का जोडा जगंल के उपर से गुजरा तो एक बहुत बडे पेड ने इन्हे पुछा अरे सुन्दर पक्षियो के जोडो कहां जा रहे हो ? यह बात सुन कर सारस बोला हम घर ओर खाने की तलाश मे जा रहे हे, पेड ने कहां भाई यहां खाने को भी बहुत किस्म के फ़ल फ़ुल हे ओर रहने को मेरे उपर तुम अपना घोसंला बना लेना,आओ यही रह लो सारस का जोडा नीचे आया तो उन्हे वो जगह बहुत पसंद आई,ओर उसी पेड पर अपना घोसंला बना कर रहने लगगये, कई साल बीत गये.
एक दिन आसमान मे काले काले बदल छा गये ओर अंधेरा सा होने लगा, काफ़ी पक्षी, जानवर भाग रहे थे, थोडी देर मे पता चला की जगंल मे भायनक आग लग गई हे,थोडी ही देर मे आग उस पेड तक भी पहुच गई, अब दोनो सारस हवा मे उड कर अपने परो से उस पेड से आग को दुर करने की कोशिश करने लगे यह देख कर पॆड ने उन से कहा भाई तुम अपने नन्हे नन्हे परो से इस भायंकर आग को नही रोक सकते , मेने तो जल ही जाना हे तुम दोनो अपनी जान बचा कर दुर उड जाओ, सारस ने कहा नही हम इतने साल तक यहां तुम पर रहे, अच्छे दिन देखे ओर आज मुश्किल समय मे तुम्हे केसे छोड दे, ओर थोडी ही देर मे दोनो सारस भी उस पॆड के साथ आग से लडते हुये जल कर मर गये, लेकिन अपना फ़र्ज पुरा कर गये.

4 comments:

  1. बहुत खूब..पता नही जनाब जादू आपकी कलम में है या कहानी में

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी कथा है।

    ReplyDelete
  3. आप सब का बहुत धन्यवाद मेरी हिम्मत बढाने के लिये फ़िर से आते रहिये

    ReplyDelete

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये