06/01/08

Interlaken से वापिस भाग अन्तिम

नमस्कार, कल हम आप को इन्तेर्लकेन स्टेशन पर लाये थे, थक भी बहुत गये थे,चाय बगेरा पी कर हम शहर मे घुमने निकल पडे,थकाबट के कारण ज्यादा नही घुम पाये,रात हो गई थी सो अपने होटल वापिस आगऎ,सब ने कमरे मे आराम किया,बच्चे लोग इंटरनेट मे सर्फ़िग करते रहे, फ़िर खाना खा कर सब मस्त हो कर सो गये, दुसरे दिन हमारा प्रोग्राम आसपास घुमने का था ओर इन्तेर्लकेन शहर घुमने का था, यहा हम लोगो ने ३०,००€ दे कर किराये पर रिक्शा लिया ,ओर सब ने उस पर सवारी की,बच्चो ने खुब मस्ती की,रात को फ़िर वपिस होट्ल आ गये, अगले दिन का बहुत लम्बा प्रोग्राम था,खाना खा कर जल्दी सो गये,ऊपर का चित्र Brienz--Luzern (बरिएन्ज़-लुज़ेर्न) के बीच मे पहाडी से लिया हे।
आज हम सुबह जल्दी उठ गये,सारा समान ओर कपडे वगेरा सम्भाले,नहाये फ़िर बच्चो को तेयार किया,अभी बाहर थोडी थोडी सर्दी थी, नश्ता कर के हम सब वपिस चल पडे,रास्ते मे लुजेर्न रुके, यहां ट्रेन से हम ** अल्प्नाच्स्ताद** पहुचे, अल्प्नाच्स्ताद से हम कोन्देल ट्रेन (सीडी की तरह की ट्रेन) से उपर पिलातुस की तरफ़ चल पडे, रास्ते मे बहुत खुब सुरत नजारॊ का मजा लेते हुऎ ओर फ़ोटो लेते हुऎ हम उपर पहुच गये।

यह फ़ोटो उपर की हे,नीचे की तरफ़ देखने पर शहर बहुत ही छोटा दिखाई देता हे, समुद्र तल से हम २१३२ मीटर,(७०००फ़ीट) उपर थे,उपर बहुत ही सुन्दर नजारा था चारो ओर खुला कही कही अभी भी बर्फ़ पडी थी लेकिन सर्दी बिल्कुल नही थीमोसम भी बहुत ही अच्छा था यहां हम काफ़ी घन्टे घुमे ओर फ़िर कोन्डेल से नीचे फ़्रएक्मुएन्तेग्ग क्रिएन्स की तरफ़ चल पडे,उपर वाली फ़ोटो भी आने से पहले पिलातुस की पहाडियों से ली थी फ़िर कोन्डेल (ट्राली) से नीचे आते आते बहुत ही सुन्दर लग रहा था,
फ़्रएक्मुएन्तेग्ग क्रिएन्स पहुच कर हम ने फ़िर से लुज़र्ण के लिये बस पकडी, बस से हम लुज़र्ण पहुच कर थोडा खाना खाया फ़िर से लुज़र्ण शहर देखने चल पडे,लुज़र्ण शहर नया ओर पुराना मिला जुला हे,यहा से घुम कर हम फ़िर वपिस जर्मन की तरफ़ चल पडे.

No comments: