27/01/08

हमारी इटली यात्रा भाग १०





नमस्कार,भाईयो आज आप कॊ हम कही बहिर नही ले कर जायेगे, बल्कि जिस जगह हम रुके थे आज उसी के आसपास घुमये गे,




हम ने ब्रिचियानॊ ( Bracciano ) शहर से थोडा दुर एक बगंले मे अपने रहने का इंतजाम कर लिया था, दो महीने पहले ही इसे बुक कर लिया था, इस मे एक बडा कमरा, एक बाथरुम,एक बडा हाल,ओर एक किचन,कार पर्किग के लिये जगह,यह बगंला शहर से बाहिर था,इस कारण शांति काफ़ी थी,




यहां पर एक बहुत बडी झील या तालाब हे, शहर नया, ओर पुराना मिला जुला हे,ओर रोम से ३५ किमी की दुरी पर हे, हर २० मिन्ट पर यहां से ट्रेन चलती हे रोम के लिये, शहर छोटा था इस लिये यहां स्टोर भी कम ही थे, वही से हम सब खाने का समान खरीदते थे,पुरा शहर भारत की तरह से ही लगता था, छोटी छोटी गलियां, घुमावदार सडके,वेसे ही सडको पर कही कही खड्डे, इटली के लोग भी बहुत ऊची ऊची बाते करते हे अपिस मे,कभी कभी लगता था शायद् लड रहे हो,




यहां के लोग दिखने मे हमारी तरह ही दिखते हे, काले बाल,काली आंखे,मोसम भी इतली का ओर युरोप से थोडा अलग हे,यानि बहुत अच्छा, यहां के लोग भी ज्यादा लम्बे नही हे,भारतियो की तरह ही ओसतन कद के हे, ओरते छोटे कद की ओर सुन्दर हे,




बिचियानो मे एक पुराना( Castello Orsini-Odescalchi ) महल हे जिसे मे काफ़ी मशहुर लोग शादिया बगेरा करते हें,इसे हम देखने गये थे,लेकिन देखने लायक तो कुछ नही था, बस पेसे की ओर समय की बर्बादी ही थी,दुसरे दिन रात को शहर मे नाच गाने का प्रोग्राम था, जहां हम सब गये यहां जर्मन की तरह बियर तो नही पीते लेकिन वाईन बहुत पीते हे, ओर लोग मस्ती मे नाच रहे थे,यहां का नाच जर्मनी से थोडा अलग था,लेकिन था अच्छा, एक दिन हम झील के किनारे किनारे घुमने गये झील का पानी बिल्कुल साफ़ सुथारा था ओर हम पानी मे काफ़ी नीचे तक देख सकते थे,किनारो से काफ़ी हट के होटेल ओए रेस्तोरा थे जहां आप खाने पीने का सभी समान खरीद सकते हे,




स्थनिया लोगो से हमारा कोई वास्ता नही पडा इस लिये उन के बारे हमे कुछ नही पता, हां जहा एक चीज हम ने देखी शराब बीयार की दुकान पर आप को काफ़ी कुछ यानि पोस्ट कार्ड वगेरा वगेरा मिल जाते हे, हमे कही भी इन्ग्लिश मे लिखा कोई बोर्ड नजर नही आया ( होसकता हे यह लोग भारतियो की तरह से लिखे पढे ना हो ??? ) जब की यह लोग स्कुल मे इन्ग्लिश ही नही ओर भाषाऎ भी पढते हे. हम ने ३, ४ दिन घर मे रह कर मोसम का आन्नद उठाया फ़िर हम अगली यात्रा पर चल दिये, यहां हम १० राते रह कर गये थे, समय बहुत ही अच्छा गुजरा था, अब आप को कल ले कर चले गे पिसा (Pisa) तब तक के लिये नमस्कार. ( आप कॊ किसी प्रकार की जान कारी चहिए तो जरुर लिखे)

No comments: