09/03/11

हंस भी सकते हे... चाहो तो?

ब्लाग मिलन के शेष विडियो तो अगली पोस्ट मे डालूंगा, तब तक आप मजा फ़रमाऎं..

एक फ़डकता तडफ़ता लतीफ़ा हाजिर हे....


अमेरिकन.... हमारे यहां कुत्ते  फ़ुटवाल खेलते हे!!
जर्मन.... हमारे यहां फ़िश डांस करती हे !!
चाईनिश.... अजी हमारे यहां हाथी साईकिल चलाते हे !!
ताऊ....     अजी छोडो अपनी अपनी गप्पे.... हमारे यहां गधे सरकार चलाते हे !!!
ही ही ही .....

38 comments:

  1. हा हा हा....मजा आ गया।

    ReplyDelete
  2. हा हा हा हा
    सही है हमारे यहाँ गधे ही देश चलते है

    ReplyDelete
  3. आ..हा...हा...हा...हा

    ReplyDelete
  4. ताऊ जी का जवाब नहीं ! मज़ा आ गया ।

    ReplyDelete
  5. खूब.. मजेदार है !!

    ReplyDelete
  6. मुझे इस पर हंसी नहीं आ रही... क्षोभ हो रहा है..

    ReplyDelete
  7. हा-ही-ही=हा-हा...
    मज़ेदार
    रोचक!!!

    ReplyDelete
  8. ha..ha...ha....sahi baat, kharee baat...kyaa baat hai bhatiyaa ji.

    ReplyDelete
  9. हा.. हा... हा.... हा.
    वाकई मजेदार.

    ReplyDelete
  10. खर की ठरकी चला रही सरकार ।
    दुजा कोई तो हो चलाने को तैयार।

    गधों की ही मौज है।

    ReplyDelete
  11. Sahi hi to hai.

    Vaise aaj akhbaron mein contents ke maamle mein blogging sensorship ki khabrein bhi dekhi thin, aise sarkari asuvidhajanak posts se kahin ham bhavishya mein khatron se to nahin khelne ja rahe ?

    ReplyDelete
  12. सही कहा आपने
    इस देश में गदहों की विशेष इज्जत है\

    ReplyDelete
  13. सरकार बन बैठने को सभी उद्यत.

    ReplyDelete
  14. वर्तमान की तो यही सच्‍चाई है।

    ReplyDelete
  15. हा हा हा……………सच ही तो कहा है।

    ReplyDelete
  16. आप इसे लतीफा कह रहे हैं
    मुझे यह तो गंभीर और सच्ची बात लगी

    प्रणाम

    ReplyDelete
  17. हा-हा-हा-हा-हा-हा-हा-हा-हा-हा-हा.................इसीलिए हमारे ताऊ सबसे अलग और ग्रेट है ! और मैं अपने ताऊ के लिए हंस रहा हूँ इन गधों के लिए नहीं !

    ReplyDelete
  18. सही कहा.. हकीकत - पर कभी कभी यूं नहीं लगता कि अगर वाकई में गधे चला रहे होते तो ज्यादा बेहतर होता ...
    जो भी हो आपके लतीफे ने काफी हँसा दिया ..हा हा हा ...:))))
    कल यह लतीफा चर्चामंच पर होगा...

    ReplyDelete
  19. लेकिन गधो में भी इतनी समझदारी है की काला धन कहा रखना चाहिए |

    ReplyDelete
  20. बहुत खूब।
    आज एक 'ऐसे' ही पर पोस्ट भी है।

    ReplyDelete
  21. गुरूजी इस बार पढ़ने में बहुत मजा आया .. .! धन्यवाद !

    ReplyDelete
  22. मैं पिछले कुछ महीनों से ज़रूरी काम में व्यस्त थी इसलिए लिखने का वक़्त नहीं मिला और आपके ब्लॉग पर नहीं आ सकी!
    बहुत ही रोचक और मज़ेदार लगा! ज़बरदस्त पोस्ट!

    ReplyDelete
  23. एक सच्‍चाई को जोक कहना अच्‍छा नहीं लगा।

    ReplyDelete
  24. हा हा! एकदम सच!!

    ReplyDelete
  25. :):)...
    मजाक होकर भी सत्य !

    ReplyDelete
  26. मजाक मजाक में बहुत गहरी और सच्ची बात कह गाते ताऊजी ! सटीक व्यंग ! बधाई !

    ReplyDelete
  27. हा हा भाटिया जी पता नही था ..चुटकुला इतना सच्चा भी हो सकता है .... .

    ReplyDelete
  28. यह चुटकुला तो नहीं है हकीकत है

    ReplyDelete
  29. लाजवाब हकीकत .

    ReplyDelete
  30. चुटकुला हो तो कोई हंसे, अब अपने नसीब पर क्या हंसना.. इसलिए हंस ही नहीं पाया.

    ReplyDelete
  31. बिल्कुल चटपटा और मजेदार....

    ReplyDelete

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये