12/12/08

काम की बाते

आप जिन के पास भी कार है, उन्हे सर्दियो मे जब कभी बाहर धुंध होती हे, या सर्दियो मे बरसात हो ओर आप को कार से कही जाना हो परिवार समेत तो..... कई बार कार के अंदर सब के सांस लेने से, ओर हीटर( कार गर्म करने के लिये कार का हीटर) से कार के अंदर की तरफ़ पानी भाप बन कर जम जाता है, रात का समय हो तो ओर भी मुश्किल होती है,

बार बार शीशे साफ़ करो , उधर ट्रेफ़िक,शोर शराबा, बहुत मुस्किल होती है ? होती है ना?? अगर मेरा फ़ारमुला अजमाओ तो आप इन सब झाझटो से छुटकारा पा सकते है ?? जी आप बेफ़िक्र हो कर कार चलाये, शीशे हम साफ़ कर देते है,

जब आप कार मे बेठे तो पहले सब शीशे नीचे कर दे, या फ़िर १,२ मिन्ट के लिये सारे दरवाजे खोल दे, ओर फ़िर अंदर बेठे तो हीटर चला ले , अगर अंदर भाप बन गई तो, झट से आप अपना ए सी (A/C ) चला दे, लेकिन हीटर बन्द ना करे.

फ़िर देखे सारी भाप कहां गई, १ मिनट काफ़ी है, फ़िर ऎ सी बन्द कर दे, ओर अगर आप की कार मै तापमान ( टेमप्रेचर) सेट करने की सुबिधा है तो कोई बात ही नही, बस ऎसी को बन्द ना करे , ओर मुगफ़ली खाते हुये, सीटी बजाते हुये कार चलाये, यानि इस भाप का दुशमन है आप का ऎ सी.

31 comments:

सचिन मिश्रा said...

Jankari ke liye aabhar.

विनय said...

बढ़िया रहा!

अल्पना वर्मा said...

bahut achchee jankari-dhnywaad

कुन्नू सिंह said...

और कहीं a/c चलाने पर जम गै तो?

विवेक सिंह said...

कुल मिला कर बच्चों ने यह सीखा कि कार में हीटर और एसी दोनों एकसाथ चलाए जाने चाहिए :)

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

समस्या गंभीर थी समाधान आसान सुझाया आपने . यह परेशानी आज कल की बड़ी तिरछी विंड स्क्रीन मे ज्यदा होती है .धन्यबाद

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

Yes, we do the same thing here too Raaj bhai sahab :)

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

इधर हमारे यहाँ कभी हीटर की जरूरत नहीं होती शीशे बन्द कर देने से काम चल जाता है और एसी केवल लम्बे सफर में चलाना पड़ता है।

ताऊ रामपुरिया said...

यहां भारत मे खासकर मध्य और पश्चिम भारत मे हीटर चलाने की तो कभी आवश्यकता ही नही पडती ! अलबत्ता A.C. तो ज्यादातर चलाना ही पडता है !

आप वाली समस्या यहां नमी ज्यादा बढने पर ही आती है जो बीच बीच मे एक दो मिनट हीटर चालू करके दूर हो जाती है !

राम राम !

mehek said...

waah achhi jankaari rahi ye tho.

seema gupta said...

अरे वाह , सुबह सुबह इतनी काम की बता पता चली , इस समस्या से आजकल रोज ही दो चार होना पड़ता है, जानकारी के लिए आभार.."

G M Rajesh said...

garm aur thande ki taasir par aapkaa anubhav share karne ke liye dhanywaad

रंजना [रंजू भाटिया] said...

अच्छी जानकारी दी है आपने

रंजन said...

AC or Heater एक साथ,

exp करना पडे़गा..

Vidhu said...

प्रोब्लम तो थी ,लेकिन मुश्किल आसान कर दी आपने धन्यवाद

सुशील कुमार छौक्कर said...

अजी हमें यह परेशानी होती हैं जी, सोचो क्यों? अजी हमारे पास गाड़ी ही नही हैं।

Gyan Dutt Pandey said...

बस ऎसी को बन्द ना करे , ओर मुगफ़ली खाते हुये, सीटी बजाते हुये कार चलाये, यानि इस भाप का दुशमन है आप का ऎ सी.
------
सही जी। पर पास में मूंगफली न हो और सीटी बजाना न आता हो, तब क्या करें!:)

डॉ .अनुराग said...

मूंगफली खाते हुए गाड़ी न चलाये ......बाकी सब ठीक है...., ऐसा हम पर्सनल अनुभव से कह रहे है..राज जी आपकी बातो पर गौर फरमाएंगे

रश्मि प्रभा said...

kaam ki is baat ko yaad rakhenge......shukriyaa

निरन्तर - महेंद्र मिश्रा said...

बहुत ही उम्दा सुझाव. अगर मूंगफली न मिले तो फ़िर सीटी कैसे बजायेंगे ....

pintu said...

bahut achcha sujhaw diye hai mai hamesa yaad rakhunga!

अभिषेक ओझा said...

बड़ी उपयोगी सलाह दी आपने.

विक्रांत बेशर्मा said...

बहुत पते की बात बताई आपने !!!

अनुपम अग्रवाल said...

सर
माफी चाहूंगा पर जरा स्पष्ट करें.
क्योंकि यहाँ तो कार में एसी से ही ठंडा या गरम किया जा सकता है .
दोनों एक साथ कैसे चलाएंगे ?

राज भाटिय़ा said...

अनुपम जी आप की बात ठीक हे, दोनो की हवा एक जगह से ही आती है, लेकिन बटन अलग अलग होते है, बस आप ने हीटर का वटन बन्द नही करना, ओर ऎ सी का बटन चला दे, लेकिन ज्यादा देर नही एक आध मिण्ट के लिये,यानि दोनो को साथ चलने दे,

jayaka said...

saral bhasha mein, bahut achchhi jaankaari di hai aapane!...dhanyawad sir!

डा. अमर कुमार said...


सही जानकारी, भाटिया जी का यह तज़ुर्बा आज़मा लिया है मैंनें,
सटीक काम करता है आपका यह अनुसंधान !
आप पेटेन्ट करवा रहे हैं, कि मैं ही करवा लूँ ?

राज भाटिय़ा said...

अरे गुरु जी आप ही पेटेन्ट करवा ले, चेला तो चेला ही होता है.

योगेन्द्र मौदगिल said...

वाह भाटिया जी, इस मामले मे मैं निपट अनाड़ी था क्योंकि मैंने कार इसी साल खरीदी. आपकी राय सस्ती, सुंदर और टिकाऊ है. जरूर आजमाएंगें प्रभु.... जैराम जी की.....

mahashakti said...

बहुत अच्‍छा, जानकारी बहुत ही अच्‍छी लगी।

sandhyagupta said...

Jankari ke liye shukriya.