14/10/08

मां

मां का मान
पुरा पढने के लिये यहां जाये

6 comments:

ताऊ रामपुरिया said...

नमन माँ. को !

mahashakti said...

वहॉं भी जा रहे है

श्रीकांत पाराशर said...

Bhatiyaji, Kitnehi log kahan samajh paate hain maa ka mahtva.

mehek said...

sach aisi hi hoti hai maa

भवेश झा said...

sahi hai sir, dhnyabad

दिगम्बर नासवा said...

हमने भी तो ये दुनिया माँ के द्वारा ही देखी है
उत्तम विचार