30/07/08

क्यो ना हंसु

यह चुटकला मेरे समय का हे...
माँ का प्यार ......
एक लड़का रात में देर से घर लौटा।
माँ ने पूछा : कहाँ गया था।
लड़का : मैं एक फिल्म देखने गया था। 'माँ का प्यार'।
माँ : जा! डैडी के कमरे में जाकर एक और फिल्म देख 'बाप की मार' !
***************************
शादीछोटा बच्चा : माँ, मैं जब बड़ा हो जाऊँगा, तो पड़ोस वाली गुड्डी से शादी कर लूँगा।माँ : क्यों बेटे,बच्चा : और क्या किया जा सकता है...सड़क पार करने से तो आप मुझे मना करती हैं ना!
***********************************
मास्टर रामू का पर्स जिसमें काफी रुपए थे कहीं गिर गया। किस्मत से वह पर्स किसी ईमानदार व्यक्ति को मिला। उसने पेपर में सूचना निकलवा दी। जरूरी प्रमाण पत्र देने पर मास्टर रामू को उसका पर्स वापस मिल गया। पर्स के रुपए कई बार गिनने के बाद जब रामू को चिंता में देखा तो उस व्यक्ति ने पूछा क्या बात है। कोई परेशानी है क्या? क्या रकम पूरी नहीं है?
रामू रक्म तो पुरी हे, मे व्याज के रुपये देख रहा हू, वो कहां हे...............

8 comments:

नीरज गोस्वामी said...

राज जी
आप लोगों को हंसाने का महान काम कर रहे हैं...बहुत वदिया.
नीरज

sudhakar soni,cartoonist said...

bade mazedaar chutkule hain,khaskar sabse neeche wala to bahut hi badfhiya ,badhai

बाल किशन said...

हा हा हा
मज़ा आ गया.
आपका का चुटकुला कोष सही में काफ़ी मज़ेदार है.

P. C. Rampuria said...

१.'माँ का प्यार'। 'बाप की मार' !
दोनों का अपना महत्व है ! जिस छोरे
नै बाबू की मार ना खाई उसका तो
जन्म ही बेकार सै !
पुरे ५ स्टार
--------------
२.पड़ोस वाली गुड्डी से शादी कर लूँगा।
कभी सबकी ऎसी ही ख्वाइश थी !
पुरे ५ स्टार !
------------
३. व्याज के रुपये देख रहा हू, वो
भाई यो रामू नही सै ! यो तो मदर
इंडिया आला कन्हैयालाल सै !
पुरे ५ स्टार !
-----------
भाटिया जी आपने ३१ जुलाई से चुटकले बंद
करण का नोटिस चेप राख्या सै ! भई यो तो
ग़लत बात सै ! ताऊ को और कही कमेन्ट
करना आता नही ! फ़िर ताऊ कहाँ कमेन्ट
करेगा ? भाई आप ज़रा ताऊ का ख्याल
राख कर बंद चालु करना ! राम राम !

Udan Tashtari said...

हा हा, मज़ा आ गया.

महेंद्र मिश्रा said...

maan ka pyaar or baap ki maar bahut joradaar chutakula hai . anand aa gaya .

Shashank said...

कभी कभी फूलों से भी ऐसे जख्म मिल जातें हैं, जहाँ से
मौत बेहतर होती है, और जिंदगी मौत से भी बदतर बन जाती है। कभी कभी केवल दिल ही नही टूटता है,
साथ मे जिंदगी भी बिखर जाती है।

Shashank said...

कभी कभी केवल दिल ही नही टूटता है,
साथ मे जिंदगी भी बिखर जाती है।