12/07/08

नारी ओ नारी

नारी उध्दारक नेता : स्त्री को अबला कहना स्त्री का अपमान है।
श्रोता : तो आप एक बार बला कहकर देख लीजिये।
*************************************************
डॉक्टर (बेहोश मरीज को देखकर) : यह तो मर गया है। मरीज (होश में आकर) : मैं तो जीवित हूं। मरीज की पत्नी (मरीज पति से) : कुछ तो सोच समझकर बोला कीजिये। इतने बड़े डॉक्टर हैं, झूठ बोलेंगे क्या ?

********************************************************
अभिनेत्री : अपनी समाधि पर मैं क्या लेख लिखवाऊं ।
सहेली : ''आखिर यह अकेली सो रही है।''

7 comments:

Anonymous said...

आप से इस प्रकार के लेखो की उम्मीद नहीं हैं . अफ़सोस हुआ आप के ब्लॉग पर नारी के प्रति हास्यापद और अपमानजनक बाते देख कर
अनाम मित्र

अनुराग said...

ek muskrahat..

आशीष कुमार 'अंशु' said...

हा हा हा हा ...

advocate rashmi saurana said...

bhut badhiya hai. khas kar doctor vala. jari rhe.

anitakumar said...

:)

राज भाटिय़ा said...

आप सभी का धन्यवाद, अनामी जी जरा खुल कर सामने आओ, अगर मे नारी का अपमान कर रहा हु आप की नजर मे, तो मुझे हंसी आती हे,हम तालिबान के देश मे नही रहते, ओर फ़िर मे आप की तरह से नारी की इज्जत के ढिढोरे नही लगाता, दिल से इज्जत करता हु, दिमाग के दरवाजे खोलो, थोडी ताजी हवा आने दो

Udan Tashtari said...

haa haa. :) Dr sahab kaise juth bol sakte hain. Jaldi se jala aao. :)