16/02/08

मुस्कुराऎ, अरे भाई आप तो हसंए चले जा रहे हे..

तो लिजिये हंसी का खाजाना॥



No comments: