03/02/08

तुम्ही मेरे मन्दिर तुम्ही मेरी पुजा...

एक मासूम सा, पवित्र सा गीत,पति पत्नी के रिश्तो को ले कर.जिस मे ना कोई मांग,ना कॊई हक बस समार्पण,कया यही हे प्यार,वेसे तो पुरी फ़िल्म ही देखने लायक हे.

फ़िल्म खानदान,गायक ळता जी, पर्दे पर सुनील दत्त,ओर नुतन जी, तो आप भी लिजिये इस गीत का लुतुफ़...

No comments: