13/01/08

रोम( ईटली) कोलोस्सएऊम


ऊपर बाला चित्र रोम के कोलोस्सएऊम के बाहिर से लिया गया हे,नीचे बाला चित्र अन्दर का हे,अभी तो यहां सब खंण्डर ही खंण्डर हे,लेकिन यहां की कहानी सुन कर रोगंटे खडे हो जाते हे,ओर इंसान की क्रूरता की हद से भी आगे कहानिया जहा से जुडी हे,चोर उच्चाको को,केदियो को,ओर अन्य अपराधियों को जिन्दा भुखे शेर के सामने छोड्ना वगेरा वगेरा....आप इस के बारे यहां पुरी जानकारी इंग्लिश मे हे




2 comments:

Mired Mirage said...

अच्छी जानकारी देने के लिए धन्यवाद।
घुघूती बासूती

राज भाटिय़ा said...

आप की टिपाण्णी के लिये धन्यवाद.