01/01/08

आप की राय

आप सब को नये वर्ष की शुभ कामनाऎ,
हम ने अभी पहला कदम रखा हे, इस हिन्दी चिठ्ठे मे, आप सब का साथ,आप का प्रेम,आप की सहायता चहिऎ,आप के सहयोग की जरुरत हे, कोई त्रिकुटी हो तो बातऎ,कोई अच्छी राय दे,आप कया देखना चाहते हे,आप को केसा लगा जरुर बताऎ,किस चीज की कमी हे जरुर बताऎ,आप सब का स्वागत हे,
ध्न्य्बाद
राज भाटिया

No comments: