04/01/08

आओ खेले खेल( कमजोर दिल ना खेले )

3 comments:

उन्मुक्त said...

अरे भाई, हमको तो डर लग गया। सही चेतवानी थी :-)

राज भाटिय़ा said...

उन्मुक्त जी, ध्न्य्वाद आप के पधारने का,

भूतनाथ said...

हा.. हां... हा ... ये तो मेरा छोटा भाई है .... अच्छा तो आपने
इसको पकड़ रखा है ! कोई बात नही ! ये देखने में डरावना है
पर बहुत शरीफ है ! हां...हां...हां... :-)
आप सोच रहे होंगे की मैं रात को डेढ़ बजे क्या कर रहा हूँ ?
तो सुन लीजिये ! तिवारी साहब सो गए ! उनके बच्चे और
पन्डताइन भी सो गए ! और आज भूतमहल से हिटलर की
प्रेमिका यूनिटी आई हुई है अपनी आत्म कथा सुनाने ! मैं वो
टैप कर रहा था की आपका मेसेज आगया ! अच्छा किया ,
आपने मेरे छोटे भाई से मिलवा दिया ! हमारे ब्लॉग पर
एक चुडैल को हमने गाने के लिए अपोइन्ट किया है ! आप
ज़रा आपके स्पीकर ओंन करके गाना सुन कर बताइये की
वो कैसा गा रही है ? अगर अच्छा लगे तो हम उसको परमानेंट
रख लेंगे ! हां...हां...हां...